विराट की वो 3 गलतियां जिससे फिर हारी टीम इंडिया

– विनय कुमार

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 3 मैचों की वनडे सीरीज (IND-AUS, ODI SERIES, 2020) के दूसरे मैच में आज फिर टीम इंडिया (Team India) को हार का सामना करना पड़ा। सिडनी (Sydney ODI) के मैदान पर खेले गए सीरीज का सबसे अहम मैच में पहले बल्लेबाज़ी करते हुए ऑस्ट्रेलिया ने 389 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। इस विशाल स्कोर का पीछा करते हुए भारतीय टीम 338 रन ही बना सकी और वनडे सीरीज हाथ से निकल गई। इस मैच में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने एक बार फिर जलवा बिखेरा। 4 विकेट खोकर 389 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया। स्टीव स्मिथ (Steve Smith) ने 104 रनों की पारी खेली। साथी खिलाड़ियों में एरॉन फिंच (Aaron Finch) (60), डेविड वॉर्नर (David Warner) (83), मार्नस लाबुशाने (Marnus Labuschagne) (70) और ग्लेन मैक्सवेल (Glenn Maxwell) (63*) ने बेहतरीन अर्धशतकीय पारियां खेली।

आइए एक क्रिकेट आलोचक के तौर पर यूं तीन अहम कारण पर गौर करें, जिससे विराट कोहली की सेना आज का मैच हार गई:

गेंदबाजी में बदलाव ज़रूरी थी, नहीं की गई 

वनडे सीरीज (IND-AUS ODI SERIES) के दूसरे मैच में  सिडनी के मैदान पर भारत के हारने का सबसे बड़ा कारण रही उसकी गेंदबाजी। कप्तान विराट कोहली की टीम के गेंदबाज़ों को ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज़ों ने पहले मैच में इसी मैदान जिस कदर धोया था, उसे देखकर लोगों को उम्मीद थी कि गेंदबाज़ी में कम से कम एक बदलाव तो ज़रूर किया जाएगा। लेकिन, ऐसा नहीं किया गया। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने टीम में कोई बदलाव नहीं किया और पहले मैच की प्लेइंग-11 (Playing-XI) के साथ इस दूसरी भिड़ंत में भी उतर गए।

 नवदीप सैनी (Navdeep Saini) आज फिर बड़े महंगे साबित हुए। नवदीप सैनी ने 7 ओवर में 10 रन प्रति ओवर की औसत से 70 रन से डाला। घातक गेंदबाज मोहम्मद शमी ने 9 ओवर में 73 और स्पिन गेंदबाजी के धुरंधर युजवेंद्र चहल ने 9 ओवर में 71 रन देकर टीम इंडिया की मुसीबत बढ़ा दी। ऐसे में काफी महंगे साबित हुए इन गेंदबाजों के बचे हुए ओवर्स की भरपाई कराने की जुगत में कप्तान विराट कोहली ने चोट से जूझ रहे हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) से 4 ओवर और 1ओवर मयंक अग्रवाल  (Mayank Agarwal) से कराए। हार्दिक पांड्या ने 24 रन देकर 1 विकेट तो झटका, लेकिन, खबरों के मुताबिक उनके फिजियोथेरपिस्ट की राय में हार्दिक करीब साल भर गेंदबाजी नहीं कर सकते। ऐसे में गेंदबाजों की कमी के कारण कप्तान कोहली को हार्दिक पंड्या से गेंदबाजी करवानी पड़ी। ये फैसला हार्दिक के करियर के लिए घातक भी साबित हो सकता है।

इस मैच में विशाल स्कोर को चेज़ करने उतरी भारतीय टीम 50 ओवर्स में 9 विकेट खोकर 338 रन ही बना सकी। ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 51 रनों से हरा दिया। टीम इंडिया के लिए कप्तान विराट कोहली (89) और के.एल राहुल (76) ने बेहतरीन अर्धशतकीय पारियां खेली। श्रेयस अय्यर (38), शिखर धवन (30), हार्दिक पांड्या (28), मयंक अग्रवाल (28) और जडेजा 24 रन बनाए।

अच्छी शुरुआत को नहीं भुना सके ओपनर्स

टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज एक बार फिर बेहतरीन शुरुआत को भुना नहीं पाए। शिखर धवन (Shikhar Dhawan) और मयंक अग्रवाल (Mayank Agarwal) की जोड़ी ने पहले विकेट के लिए 58 रनों की साझेदारी की, सबकुछ ठीक लग रहा था कि तभी लेकिन तभी सिर्फ़ 2 रन के अंदर  दोनों सलामी बल्लेबाज आउट हो गए। मयंक अग्रवाल को कमिंस ने और शिखर धवन को हेजलवुड ने आउट किया।

किससे करानी थी ओपनिंग ?

इस मैच में टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली से एक और चूक हुई। जब उनके सामने जीत के लिए 390 रनों का पहाड़ सा लक्ष्य था, तो उन्हें ओपनिंग में के.एल .राहुल को भेजना चाहिए था। के.एल. राहुल को मिडल ऑर्डर में भेजा गया। राहुल ने यहां भी 70 रनों की बेहतरीन पारी खेली।

सूरत-ए-हाल ये था कि जब राहुल बल्लेबाजी मैदान पर उतरे, उस समय टीम इंडिया के हाथ लक्ष्य पाने कि दिशा में गेंदों की संख्या कम थी और जीत के लिए रन काफ़ी ज़्यादा थे। ऐसे में अगर के एल राहुल को सलामी बल्लेबाज के तौर पर मैदान में उतारा जाता, तब एक ओपनर के तौर पर वो लंबी पारी खेल सकते थे और टीम को जीत दिलाने में बड़ी भूमिका निभा सकते थे। यही नहीं, मयंक अग्रवाल को मिडल ऑर्डर में उतारा जाता तो वो आतिशी बल्लेबाज़ी करके  टीम को जीत दिलाने में कामयाब हो सकते थे।