OBED-MACOY

    ग्रोस आइलेट. आस्ट्रेलिया (Australia) के निचले क्रम के बल्लेबाजों के ‘फ्लॉप शो’ का फायदा उठाते हुए वेस्टइंडीज (Westindies) ने पहले T20 मैच में शुक्रवार को 18 रन से जीत दर्ज की । मेजबान ने पहले बल्लेबाज के लिये भेजे जाने पर छह विकेट पर 145 रन बनाये । आंद्रे रसेल ने 28 गेंद में 51 और लैंडल सिमंस ने 27 रन जोड़े । जवाब में आस्ट्रेलिया ने एक समय तीन विकेट पर 70 रन बना लिये थे लेकिन आखिरी छह विकेट 19 रन के भीतर गंवा दिये और 16 ओवर में 127 रन पर आउट हो गई ।

    चला ओबेद मकॉए का जलवा, टुटा ऑस्ट्रेलिया पर कहर :

    लेकिन वेस्ट इंडीज (West Indies) का 24 साल का एक गेंदबाज कहर बनकर टुटा, जिसने पूरे मैच में दिखे ऑस्ट्रेलिया (Australia) के दबदबे को आखिर में अपने दम से तोड़ के चकनाचूर कर डाला। उसने ऐसा जोरदार प्रहार किया कि ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज बस तमाशा बनकर ही रह गए।

    ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों से अपनी गेंदों से छकाने वाले गेंदबाज ओबेद मकॉए (Obed McCoy) थे, जिन्होंने इस मैच में कुछ वैसी ही गेंदबाजी की नुमाइश की जैसा कि 90 के दशक में भारतीय तेज गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद (Venkatesh Prasad) किया करते थे।

    मुकाबले में वैसे तो ऑस्ट्रेलिया फ्रंटफुट पर था। उसे जीत के लिए 58 गेंदों पर सिर्फ 38 रन बनाने थे और हाथ में 6 विकेट बचे थे। लेकिन ओबेद मकॉए के करिश्माई स्पेल ने ऐसा बिलकुल होने नहीं दिया। ऑस्ट्रेलिया के बाकी के 6 बल्लेबाज मिलकर सिर्फ 19 रन ही बना सके। मकॉए ने मैच में 4 ओवर में 4 विकेट चटकाए। इनमें 3 विकेट उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के आखिर के 6 विकेटों में से लिए थे।

    इस प्रकार ओबेद मकॉए ने 26 रन देकर चार और हेडन वॉल्श ने 23 रन देकर तीन विकेट लिये । आस्ट्रेलिया के लिये मिशेल मार्श ने सर्वाधिक 51 रन बनाये और बाद में दो विकेट भी लिये । जोश हेजलवुड ने तीन विकेट चटकाये । सलामी बल्लेबाज मैथ्यू वेड ने 14 गेंद में 33 रन बनाकर आस्ट्रेलिया को अच्छी शुरूआत दिलाई लेकिन बाकी बल्लेबाज उसका फायदा नहीं उठा सके ।

    नस्लवाद के विरोध:

    मैच शुरू होने से पहले दोनों टीमों के खिलाड़ियों ने घुटने के बल बैठकर नस्लवाद के विरोध में चल रही मुहिम को समर्थन दिया । क्रिकेट आस्ट्रेलिया ने बाद में बयान जारी करके कहा ,‘‘ आस्ट्रेलियाई पुरूष क्रिकेट टीम नस्लवाद आधारित भेदभाव के खिलाफ वेस्टइंडीज टीम के साथ है । इसीलिये हमारे खिलाड़ियों ने वेस्टइंडीज के क्रिकेटरों के साथ घुटने के बल बैठने का फैसला किया ।”