कब हुआ पहला सुपर ओवर? किसने खेले सबसे ज्यादा

– विनय कुमार

आईपीएल (IPL T20, 2020) ke ताज़ा सीज़न में 11 मैच हो चुके हैं। और, इस दरम्यान आइपीएल के कई रिकॉर्ड टूट तो कई बने भी। सबसे रोमांचक बात ये देखी गई कि अब तक खेले गए 11 में से 2 मैच का फैसला ‘सुपर ओवर’ से हुआ। यानी, दो ‘सुपर ओवर’ देखने मिला और धमाकेदार पारियां। ग़ौरतलब है कि टी 20 में, मैच के ड्रॉ होने पर के ‘बॉल-आउट’ का उपयोग किया गया था। करीब 30 साल पहले 1991 के ‘काउंटी सीजन’ में पहला काउंटी मैच डर्बीशायर और हर्टफोर्डशायर के बीच हुआ था। उस समय 5 गेंदबाजों को 2-2 गेंद फेंकने के लिए कहा गया था। डर्बीशायर के स्टीव गोल्ड स्मिथ ने एक बार विकेट झटकने में कामयाबी हासिल की थी, और अन्य गेंदबाज नाकाम रहे।

पहले ‘बॉल-आउट पद्धति’ का उपयोग 2006 में न्यूजीलैंड (NZ) और वेस्टइंडीज (WI) के बीच हुए एक इंटरनेशनल मैच में किया गया था। इस मैच में न्यूजीलैंड ने 3-0 से जीत दर्ज की। 2007 के  T20 विश्व कप (T20 WORLD CUP) में भारत (IND) और पाकिस्तान (PAK) के बीच हुआ एक मैच भी एक बॉल आउट द्वारा तय किया गया था। जिसमें भारत ने 3-0 से जीत हासिल की थी।

सुपर ओवर का पहला मैच 

आईसीसी (ICC) ki तरफ़ से 2008 में बॉल-आउट सिस्टम को बदला गया और ‘सुपर ओवर’ शुरू किया गया। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पहला ‘सुपर ओवर’ 26 दिसंबर, 2008 को न्यूजीलैंड (NZ) और वेस्टइंडीज (WI) के बीच खेला गया था। मुख्य मैच ड्रा होने के बाद ऑकलैंड के मैदान पर पहला ‘सुपर ओवर’ शुरू हुआ। वेस्टइंडीज (WI) के धाकड़ बल्लेबाज़ क्रिस गेल और जेवियर मार्शल क्रीज़ पर आए। इस सुपर ओवर में क्रिस गेल ने न्यूजीलैंड के डेनियल विटोरी के एक ओवर में 25 रन बनाए थे। जवाब में न्यूजीलैंड केवल 15 रन ही बना पाया था।

2 विकेट गिरने पर पारी समाप्त 

ICC के नियम के अनुसार ‘सुपर ओवर’ सामना करने वाली टीम सुपर ओवर खेलने के लिए 3 बल्लेबाजों को चुनती है। 1 गेंदबाज 1 ओवर की गेंदबाज़ी इस सुपर ओवर में करता है। अगर बल्लेबाजी करने वाली टीम उस सुपर ओवर में 2 विकेट खो देती है, तो उनकी पारी वहीं समाप्त होती है।

2019 वर्ल्ड कप फाइनल का ‘सुपर ओवर’ और विवादास्पद फ़ैसला 

2019 के वर्ल्ड कप का सुपर ओवर शायद ही कोई भूल पाएगा। जिस तरह से ‘सुपर ओवर’ मैच का फैसला किया गया था, उसकी काफ़ी आलोचना हुई। हालांकि, 2019 क्रिकेट विश्व कप फाइनल में उठे विवाद के बाद ‘सुपर ओवर’ के नियमों को बदल दिया गया था। अंतिम मैच ड्रॉ समाप्त होने के बाद ट्रेंट बोल्ट के ओवर में जोस बटलर और बेन स्टोक्स ने 15 रन बनाए। न्यूजीलैंड को विश्व कप के लिए जोफ्रा आर्चर के खिलाफ 16 रनों की जरूरत थी। हालांकि, मार्टिन गुप्टिल और जिमी निशाम भी केवल 15 रन बना पाए। अंत में, इंग्लैंड को सीमा गणना नियम से विजेता घोषित कर दिया। यह वनडे क्रिकेट के इतिहास में अब तक का एकमात्र ‘सुपर ओवर’ है। अब, नए नियमों के अनुसार, अगर एक सुपर ओवर भी फैसला नहीं दे पाता है तब ऐसी स्थिति में एक और ‘सुपर ओवर’ खेला जाता है। साथ ही, नए नियमों के अनुसार, मैच का परिणाम तय होने तक ‘सुपर ओवर’ खेले जाते हैं।

न्यूजीलैंड ने सर्वाधिक सुपर ओवर खेले 

पुरुष खिलाडियों के अंतरराष्ट्रीय मैचों में अब तक 15 ‘सुपर ओवर’ खेले गए हैं। न्यूजीलैंड (NZ) ने सबसे ज्यादा 7 सुपर ओवर खेले हैं। दुर्भाग्य से सभी मैच वें हार गए। इंग्लैंड (ENG) ने तीन, भारत, वेस्टइंडीज (WI) प्रत्येक ने दो ‘सुपर ओवर’ जीते हैं।

किसने कभी भी ‘सुपर ओवर’ नहीं गंवाया 

आईपीएल (IPL T20) के इतिहास में अब तक 10 सुपर ओवर हो चुके हैं। आईपीएल (IPL T20) में हर टीम कम-से-कम एक ‘सुपर ओवर’ खेल चुकी है। कोलकाता नाइट राइडर्स (KKR) और रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरू (RCB) ने तीन-तीन मैच खेले हैं। राजस्थान रॉयल्स (RR) आईपीएल (IPL T20) की एकमात्र टीम है, जिसने कभी भी ‘सुपर ओवर’ नहीं गंवाया है। उन्होंने दो मैच खेले और दोनों जीते।