Why did England captain Eoin Morgan praise the Indian bowlers

भारत की 'विराट-सेना' ने 3 ओवर रहते 7 विकेट से मैच जीत लिया और सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली।

    -विनय कुमार

    भारत और इंग्लैंड के बीच 5 मैचों की T20 I (T20 International Cricket) सीरीज के दूसरे मैच में रविवार 14 मार्च को भारत ने इंग्लैंड को हरा दिया। अहमदाबाद के ‘नरेंद्र मोदी क्रिकेट स्टेडियम’ में खेले गए इस मैच में टीम इंडिया के बल्लेबाजों के साथ-साथ गेंदबाजों की भी बड़ी भूमिका रही। भारत की ‘विराट-सेना’ ने 3 ओवर रहते 7 विकेट से मैच जीत लिया और सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली। इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन (Eoin Morgan Captain T20 Team England) ने अपने देश की हार का ठीकरा कुछ खिलाड़ियों के सिर फोड़ा है।

    इस मैच में इंग्लैंड ने पहले बल्लेबाजी की, जिसमें भारतीय गेंदबाजों की घातक और खतरनाक गेंदबाज़ी के सामने इंग्लैंड के सूरमा बल्लेबाज़ 20 ओवर में 164 रन ही बना पाए।  जिसके जवाब में युवा बल्लेबाज और अपना डेब्यू मैच खेल रहे झारखंड का गबरू जवान ईशान किशन (Ishan Kishan) और भारत के धांसू कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli Captain Indian Cricket Team T20 India vs England 2021) के बेहतरीन और विस्फोटक अर्धशतकों की बदौलत भारत आसानी से इस मैच को जीत गया। 

    मैच की समाप्ति के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में टीम इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) अपनी टीम के खिलाड़ियों के प्रदर्शन से निराश नजर आए। उन्होंने कहा, ”हमारे लिए निराशा यह थी कि हम पहले 10 ओवर में विरोधी टीम के गेंदबाजों पर हमला नहीं कर पाए। टीम के दो टॉप के बल्लेबाज हमेशा आक्रामक होकर खेलने और इसी प्रक्रिया के साथ मैदान पर उतर कर खेलने का प्रयास करते हैं, लेकिन हमारे ओपनर बल्लेबाज  उम्मीद पर नखरे नहीं उतरे।”

    भारतीय बोलर्स का कहर टूटा

    इंग्लैंड के कप्तान इयोन मॉर्गन ने आगे कहा, “यह बात हमारे ध्यान में आया। लेकिन भारतीय गेंदबाजों ने बेहतरीन गेंदबाजी की और हमें कम रनों पर रोक दिया। उन्होंने (Indian Bowlers) हमें शुरू से ही बैकफुट पर रखा। गेंदबाजी में उन्होंने जो मिश्रण किया वह हमारे बल्लेबाजों के लिए चुनौती से भरा था। उन्होंने हमें शॉट खेलने का अवसर ही नहीं दिया। टीम इंडिया के गेंदबाजों ने टीम (India) की जीत में खास भूमिका निभाई। मुझे खुशी है कि हम इस पिच पर खेले। लेकिन, हमारी टीम ने जिस तरह से खेला, उससे थोड़ा दुखी हूं। लक्ष्य का पीछा करना हमेशा फायदेमंद होता है।”