File Photo
File Photo

    -विनय कुमार

    इस साल 2021 में सात साल के लंबे अंतराल के बाद भारत और इंग्लैंड की महिला टीमों के बीच (INDW vs ENGW Test Match) इंग्लैंड के ब्रिस्टल (Bristol England) में पहली बार टेस्ट मैच खेला गया, जो ड्रॉ रहा। लेकिन, इंग्लैंड में खेले गए इस ऐतिहासिक टेस्ट मैच ने भविष्य में महिला टेस्ट क्रिकेट (Women’s Test Cricket) के दरवाजे खोल दिए हैं। इंग्लैंड महिला टेस्ट टीम की कप्तान हीथर नाईट (Heather Knight Captain England Women’s Test Team) ने मैच के बाद कहा कि, ” शानदार खेल हुआ। हालांकि, यह दुर्भाग्यपूर्ण या रहा कि इस मैच की रोमांचक (thrilling end) समाप्ति नहीं हुई, लेकिन यही क्रिकेट है। यह (Test Match) काफी रोमांचक होना चाहिए था, लेकिन मुझे लगता है कि यह टेस्ट क्रिकेट के लिए बेहतरीन  विज्ञापन है।”

    उन्होंने आगे कहा, “हमने मैदान पर कुछ बेहतरीन स्किल देखा। दोनों टीमों की ओर से कुछ युवा खिलाड़ियों ने शानदार खेल दिखाया। इस मैच ने दिखाया कि महिला टेस्ट क्रिकेट की अपनी एक अलग जगह है। यूं तो मैं तैयार हूं महिला टेस्ट क्रिकेट के लिए। मेरी नजर में बेहतर हो कि मैच का पांचवां दिन भी हो ताकि पांचवें दिन परिणाम निकल सके। 

    भारत और इंग्लैंड की महिला क्रिकेट टीम के बीच खेला गया यह टेस्ट मैच चार दिन का था, जिसका एक सेशन बारिश की वजह से धूल गया था। दूसरी तरफ इस मैच के ड्रॉ (IndW vs EngW Test Match Draw) होने से काफी राहत महसूस कर रही भारतीय महिला टीम की कप्तान मिताली राज (Mitali Raj) ने अपनी टीम की युवा खिलाड़ियों की जमकर तारीफ की। 

    गौरतलब है कि, भारत के खिलाफ इंग्लैंड की महिला टेस्ट टीम ने अपनी पहली पारी 9 विकेट के नुकसान पर 396 रन बनाकर पारी घोषित कर दी थी, जबकि भारतीय टीम पहली पारी में 231 रन पर ही सिमट गई थी, जिसके बाद भारत को फॉलोआन (Follow On) खेलना पड़ा। भारत की दूसरी पारी की बल्लेबाजी में टीम ने 7 विकेट खोकर 199 रन बना लिए थे और उसके पास 34 रन की बढ़त थी। लेकिन, फिर स्नेह राणा (Sneh Rana) ने नाबाद 80 रन बनाए और उसके बाद लोअर ऑर्डर की बल्लेबाजी ने मैच को इंग्लैंड की कस रही मुट्ठी से निकाल लिया और यह मैच ड्रॉ हो गया। भारत इस ऐतिहासिक मैच में हार से बच गई। 

    हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) के आउट होने के बाद स्नेह राणा ने शिखा पांडेय (Shikha Pandey) और तान्या भाटिया (Tanya Bhatia) के साथ आठवें और नौंवें विकेट के लिए 145 रन जोड़े और  47.3 ओवर का सामना किया। मैच के तीसरे दिन टी ब्रेक के बाद का खेल बारिश की वजह से नहीं हो सका और इंग्लैंड की टीम को इसका नुकसान उठाना पड़ा। लेकिन हार से भारत को बचाने में भारत की युवा सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा  (Shefali Verma) और इस मैच से अपने करियर का डेब्यू करने वाली 5 खिलाड़ियों ने खास भूमिका निभाई और भारत को शर्मिंदगी से बचा लिया।

    भारतीय टीम की कप्तान मिताली राज ने इस मैच से अपने करियर का डेब्यू करने वाली पांचों खिलाड़ियों की तारीफ़ की, जिन्होंने इंग्लैंड की जीत के इरादे को पस्त कर दिया। शेफाली वर्मा ने अपने डेब्यू टेस्ट मैच में 96 और 63 रन बनाकर ‘प्लेयर ऑफ़ द मैच’ (Shefali Verma Player of The Match) बनीं, जबकि दीप्ति (Deepti Bowler Indian Cricket Team Women’s) ने 3 विकेट हासिल करने के साथ नाबाद 29 और 54 रन भी बनाए। पूजा वस्त्रकर (Puja Vastrakar) ने 1 विकेट झटका और बल्ला थामे क्रीज पर कुछ गेंदों का सामना भींकिया। जबकि स्नेह राणा और तान्या भाटिया ने नौंवें विकेट के लिए 104 रनों की शानदार साझेदारी की और मैच को इंग्लैंड के चंगुल से निकाल लिया। 

    स्नेहा राणा (Sneha Rana) ने कहा, “हम बिलकुल भी परेशान नहीं थे और हमारा पूरा ध्यान अपने बेसिक्स (basics) पर टिका हुआ था। विपक्षी खिलाड़ी (England Team sledging India) स्लेजिंग करने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन हमारा ध्यान अपने काम और बेसिक्स पर था। हमने उन लोगों पर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया और एक सही परिणाम हमारे पक्ष में आया। 

    इस मैच में ‘प्लेयर ऑफ़ द मैच’ बनीं युवा खिलाड़ी शेफाली वर्मा (Shefali Verma) ने अपने आक्रामक स्ट्रोक प्ले से खेलप्रेमियों का ध्यान खींचा। भारत की महिला ‘वीरेंद्र सहवाग’ कही जाने वाली शेफाली वर्मा ने पहली पारी में 96 और दूसरी पारी में शानदार 63 रन बनाए। उन्होंने अपनी पहली पारी की बल्लेबाजी में 13 चौके और 2 छक्के ठोके। जबकि दूसरी पारी में शेफाली ने 11 चौके और 1 छक्का भी मारा। शेफाली अंतरराष्ट्रीय महिला टेस्ट क्रिकेट में छक्का लगाने वाली दूसरी खिलाड़ी बन गई।

    यह टेस्ट मैच भारत के लिहाज से अच्छा रहा। लेकिन महिला टीम इंडिया की कप्तान मिताली राज और लिमिटेड ओवर्स टीम की कप्तान हरमनप्रीत कौर (Harmanpreet Kaur) के लिए निजी प्रदर्शन के लिहाज से उनका प्रदर्शन शानदार नहीं रहा। कप्तान  मिताली मैच की दोनों पारियों में 2 और 4 रन ही बना पाई। जबकि हरमनप्रीत कौर भी पहली पारी में 4 और दूसरी में 8 रनों पर चलती बनी। 

    भारतीय महिला क्रिकेट टीम की कप्तान मितली राज 38 साला की हैं और यह अपने  को लेकर सोचने का उनके लिए सही एक है। जबकि 32 साल की हरमनप्रीत कौर के पास अभी समय है, लेकिन उन्हें अपने प्रदर्शन में जल्द ही कड़ी मेहनत करते हुए सुधार लाना होगा। हरमनप्रीत कौर, स्मृति मंधाना, शेफाली वर्मा, दीप्ति और जेमिमाह रॉड्रिग्स इस टेस्ट मैच के खत्म होने के बाद ‘द हंड्रेड टूर्नामेंट’ (The Hundred Tournament INDW) के पहले सीजन में भी नजर आएंगी। गौरतलब है कि, भारतीय महिला टेस्ट टीम का अगला मुकाबला ऑस्ट्रेलिया की महिला टीम से ऑस्ट्रेलिया की सरजमीं पर डे-नाइट टेस्ट मैच में होगा। भारतीय महिला क्रिकेट टीम के लिए ‘डे-नाइट टेस्ट मैच’ (INDW vs AUSW Day-Night Test Match 2021) नया अनुभव होगा।