Delhi Deputy chief minister Manish Sisodia
File Photo : PTI

नयी दिल्ली. दिल्ली में कोविड-19 मरीजों के घर पर ही पृथक रहने के लिये उपयुक्त होने या उनके अस्पताल में भर्ती होने को तय करने के लिये एक अनिवार्य क्लीनिकल आकलन एवं व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होकर सत्यापन कराने संबंधी एसडीएमए के आदेश को बृहस्पतिवार को वापस ले लिया गया। साथ ही, दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों को घर पर पृथक रहने या अस्पताल में भर्ती होने के संबंध में क्लीनिकल आकलन के लिये कोविड देखभाल केंद्र नहीं जाना होगा।

सिसोदिया ने राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एसडीएमए) की बैठक के बाद यह कहा। इसमें उप राज्यपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल भी शामिल हुए। संक्रमित व्यक्ति के कोविड-19 देखभाल केंद्र जाने संबंधी दिशानिर्देश शनिवार से प्रभावी हुआ था, जिसका आम आदमी पार्टी सरकार ने यह कहते हुए सख्त विरोध किया था कि यह प्रशासनिक एवं स्वास्थ्य ढांचे पर बोझ बढ़ाएगा और शहर में अव्यवस्था की स्थिति पैदा हो जाएगी।

केजरीवाल ने यह मुद्दा उपराज्यपाल और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के समक्ष भी उठाया था। सिसोदिया ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों के कोविड देखभाल केंद्र जाने की जरूरत के बारे में केंद्र के आदेश को एसडीएमए की बैठक में वापस लेने का फैसला किया गया है।” सिसोदिया ने कहा कि जिन लोगों के भी रैपिड जांच में कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि होगी, उनका मौके पर ही मेडिकल अधिकारी क्लीनिकल आकलन करेंगे।

उन्होंने कहा कि आरटी-पीसीआर जांच में जिनके संक्रमित होने की पुष्टि होगी, उनकी हालत का आकलन जिला निगरानी अधिकारी द्वारा भेजी गई टीम करेगी। आम आदमी पार्टी के नेता ने कहा कि दिल्ली में कोविड-19 के मरीज को घर पर ही पृथक रखना काफी सफल रहा है और इस प्रणाली के तहत कोविड-19 के करीब 30,000 मरीज संक्रमणमुक्त हुए हैं। (एजेंसी)