Delhi government's entire focus on saving lives: Sisodia

नयी दिल्ली. दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने शुक्रवार को कहा कि कोविड-19 के हालात को देखते हुए राष्ट्रीय राजधानी में सभी स्कूल 31 जुलाई तक बंद रहेंगे। साथ ही उन्होंने कहा कि इस दौरान ऑनलाइन कक्षाएं और अन्य गतिविधियां जारी रहेंगी। दिल्ली के शिक्षा मंत्री सिसोदिया ने स्कूलों को फिर से कैसे खोला जाए, इस विषय पर शिक्षा निदेशालय की बैठक के बाद यह घोषणा की। बैठक में जिन विषयों पर चर्चा हुई उनमें पाठ्यक्रम (सिलेबस) में 30 से 50 प्रतिशत की कमी करने की बात की गई ताकि छात्रों में तनाव कम किया जा सके, साथ ही कक्षा विशेष के लिए ऑनलाइन गतिविधियों पर भी बातचीत हुई।

कोरोना वायरस महामारी के कारण दिल्ली में स्कूल मार्च के मध्य से ही बंद हो गए। केन्द्र सरकार द्वारा जब 24 मार्च की मध्यरात्रि से राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की घोषणा की गई तो स्कूलों को खुलने का मौका ही नहीं मिला। वहीं केन्द्र सरकार की ओर से स्कूलों को फिर से खोलने को लेकर अभी तक कोई दिशा-निर्देश नहीं आया है।

सिसोदिया ने कहा, ‘‘स्कूलों को फिर से खोलना सिर्फ तकनीकी काम नहीं है, यह रचनात्मक कार्य है जो स्कूलों को नयी और बड़ी भूमिका देगा। दिल्ली में स्कूल 31 जुलाई तक बंद रहेंगे। चलिए स्कूलों को फिर से खोलने के लिए ऐसी योजना बनाते हैं जो हमारे छात्रों को नए हालात से समन्वय बनाने में मदद करेगा और वे उनसे डरेंगे नहीं। यह हमारे छात्रों को कोरोना वायरस से जीना सिखाएगा।”

आधिकारिक बयान के अनुसार, बैठक के दौरान स्कूल खुलने तक माता-पिता की मदद से छात्रों को पढ़ाने और गतिविधियों में भाग लेने के लिए अवसर देने पर चर्चा हुई। बैठक में एक सलाह यह थी कि प्राथमिक (पहली से पांचवी) तक के कक्षाओं के लिए सप्ताह में दो बार कक्षा लगे और उसमें 12 से 15 विद्यार्थी हों। यही सलाह छठवीं से आठवीं तक के छात्रों के लिए भी दी गयी। (एजेंसी)