दिल्ली के तीनों महापौरों ने कहा- सोमवार से धरनास्थल से ही चलायेंगे अपने कार्यालय

नयी दिल्ली: दिल्ली (Delhi) की आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) (आप) सरकार के खिलाफ अपनी मुहिम तेज करते हुए भाजपा (BJP) शासित निगमों के महापौरों (mayour) ने कहा है कि वे सोमवार से धरनास्थल से ही अपना कार्यालय चलायेंगे। ये महापौर पिछले पांच दिनों से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) के निवास के बाहर धरने पर बैठे हैं।

तीनों महापौरों ने दावा किया है कि दिल्ली सरकार पर उत्तरी, दक्षिणी और पूर्वी दिल्ली नगर निगमों का 13000करोड़ रूपये बकाया है। हालांकि आप ने कहा, ‘‘ भाजपा शासित नगर निगम जानते हैं कि उनका प्रदर्शन मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को परेशान करने तथा राष्ट्रव्यापी किसान आंदोलन से ध्यान बंटाने के लिए पार्टी आलाकमान का एक बस एक बहाना है।”

बृहस्पतिवार को उत्तरी दिल्ली के महापौर जय प्रकाश, दक्षिणी दिल्ली की महापौर अनामिका और पूर्वी दिल्ली के महापौर निर्मल जैन ने धरनास्थल पर संयुक्त संवाददाता सम्मेलन किया और कहा कि प्रदर्शन‘‘लोकतांत्रिक ढंग से चलेगा ताकि वे निगम के कर्मचारियों को समय से वेतन का भुगतान कर सकें।” शुक्रवार को उन्होंने दूसरा संयुक्त संवाददाता सम्मेलन किया और कहा, ‘‘ सभी तीनों महापौर मुख्यमंत्री के आवास के बाहर से सोमवार से अपना कार्यालय चलायेंगे।”

प्रकाश ने कहा कि जबतक मुख्यमंत्री तीनों नगर निगमों को 13000 करोड़ रूपये जारी नहीं करते तबतक हम उनके निवास के बाहर धरना जारी रखेंगे। उधर, आप ने कहा कि महापौरों को पता है कि दिल्ली सरकार ने ‘‘सारे फंड दे दिये” हैं और आरोप लगाया कि ‘‘भ्रष्टाचार और अकार्यकुशलता के चलते नगर निगम वित्तीय बर्बादी का सामना कर रहे हैं।”