Corruption in Himachal Pradesh, BJP state president resigns

हिमाचल स्वास्थ्य सेवा भ्रष्टाचार कांड में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राजीव बिंदल ने इस्तीफा दे दिया।

बीजेपी स्वयं को दूसरों से अलग किस्म का दल (पार्टी विद डिफरेंस) बताते हुए चाल-चेहरा-चरित्र का दावा करती है। इस तरह उसके नेता यह दर्शाने का प्रयास करते हैं कि नैतिकता, ईमानदारी, सदाचार व सिद्धांतवादिता के आदर्शों पर चलने वाली देश में कोई पार्टी है तो वह सिर्फ बीजेपी ही है! बीजेपी को क्या स्मरण नहीं है कि उसके एक पूर्व अध्यक्ष बंगारू लक्ष्मण नोटों का बंडल स्वीकारते हुए कैमरे में कैद हुए थे? अभी हिमाचल स्वास्थ्य सेवा भ्रष्टाचार कांड में बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष राजीव बिंदल ने इस्तीफा दे दिया। राजीव बिंदल के बेटी-दामाद सोलन में अपैक्स डायग्नोस्टिक नामक कंपनी चलाते हैं। इस कंपनी के मार्केटिंग मैनेजर पृथ्वी सिंह हैं। पृथ्वी सिंह और हिमाचल प्रदेश स्वास्थ्य सेवा निदेशक के बीच रिश्वत से संबंधित बातचीत का ऑडियो क्लिप वायरल हुआ इसमें स्वास्थ्य निदेशक को 5,00,000 रुपए रिश्वत देने की पेशकश की गई थी। इस पर सतर्कता व भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने सक्रियता दिखाई और स्वास्थ्य निदेशक को हिरासत में ले लिया व बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया। इसके बावजूद पृथ्वी सिंह पर कोई कार्रवाई नहीं की गई।पृथ्वी सिंह का संबंध पूर्व मंत्री व नाहन से विधानसभा सदस्य राजीव बिंदल से है जो कि प्रार्टी प्रदेशाध्यक्ष भी हैं। यह आरोप लगा कि अपैक्स डायग्नोस्टिक सोलन से 6,000 व 7,000 की संख्या में 2 चरणों में व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) किट खरीदी गई थी। मीडिया के एक वर्ग ने जांच-पड़ताल की तो मालूम पड़ा कि जिस बंसल कम्युनिकेशन कुरुक्षेत्र नाम की एजेंसी से 6,000 किट की आपूर्ति की गई, वो कंपनी अस्तित्व में ही नहीं है।कांग्रेस और सीपीएम सहित सभी विपक्षी पार्टियों ने प्रदेश की सत्ताधारी बीजेपी सरकार पर कोरोना आपदा से उत्पन्न कठिन परिस्थतियों में भी रिश्वत स्वीकारने को लेकर तीखा हमला किया और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की। मध्यप्रदेश में भी बीजेपी सरकार के दौरान व्यापमं और डम्पर घोटाला चर्चित हुआ था। पूर्व केंद्रीय मंत्री सुखराम का नाम टेलीकॉम घोटाले में चर्चित हुआ था लेकिन जब वे दल बदल कर बीजेपी में शामिल हुए तो यह सब भुलाकर पार्टी ने उन्हें उपमुख्यमंत्री बनाया था। यदि बीजेपी सिद्धांतप्रिय है तो भ्रष्टाचारियों के प्रति कोई नरमी न दिखाए।