भारतीय छात्र ऑनलाइन कक्षा और व्यक्तिगत उपस्थिति के बीच बैठाया जा रहा तालमेल

लंदन. भारत के अनेक छात्र विभिन्न विश्वविद्यालयों में पढ़ाई करने के लिए लिए कोविड-19 (Covid-19) पाबंदियों के बावजूद ब्रिटेन आए हैं और कक्षाओं में ऑनलाइन(Online classes) तथा व्यक्तिगत उपस्थिति के शिक्षण के मिलेजुले तरीके के बीच तालमेल बैठा रहे हैं। नए अकादमिक सत्र के पहले कुछ हफ्तों के विश्लेषण में यह पता चला है। ब्रिटेन के 139 विश्वविद्यालयों के प्रतिनिधि संगठन यूनिवर्सिटीज यूके की ओर से जानकारी दी गई कि विश्वविद्यालयों से मिले ताजा आंकड़ों और जानकारी से पता चलता है कि ब्रिटेन के विश्वविद्यालयों में उम्मीद से कहीं अधिक संख्या में विदेशी छात्र अध्ययन के लिए आए हैं।

वर्ष 2020-21 का शरद सत्र इस महीने आरंभ हुआ, ऐसे में विश्वविद्यालयों द्वारा भारत समेत अन्य देशों से आने वाले छात्रों की मदद के लिए जो कदम उठाए गए हैं, उनके बारे में संगठन ने रिपोर्ट एकत्र की। बर्मिंघम सिटी यूनिवर्सिटी में अध्ययन करने लौटे एक भारतीय छात्र रोहन ने कहा, ‘‘ब्रिटेन तक कि मेरी यात्रा बहुत सुगम रही। कॉलेज प्रवेश सेवा (सीएएस), वीजा आवेदन प्रक्रिया आदि में कोई परेशानी नहीं आई।” नेशनल इंडियन स्टुडेंट्स ऐंड एलुमनी यूनियन यूके (National Indian Students and Alumni Union UK) ने कहा कि यह भारतीय छात्रों के अनुभवों की व्यापक समीक्षा करने की प्रक्रिया है जिसमें पता चला कि करीब 40 फीसदी छात्र शिक्षण के दोनों प्रकार से संतुष्ट हैं।(एजेंसी)