There will be only final year and final semester examinations in Chhattisgarh

नई दिल्ली. सीबीएसई की 10वीं एवं 12वीं कक्षा की लंबित परीक्षा देने के लिये छात्रों को उन केंद्रों पर उपस्थित होना होगा जहां से उन्होंने पंजीकरण कराया है और यह किसी बाह्य केंद्र पर नहीं होंगी । मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने यह जानकारी दी । मंत्रालय जुलाई के अंत तक परीक्षा परिणाम घोषित करने की योजना बना रहा है । इस दिशा में लॉकडाउन की घोषणा होने से पहले जिन विषयों की परीक्षाएं हो गई थी, उनके मूल्यांकन की प्रक्रिया पहले ही शुरू हो चुकी है । केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के अधिकारियों ने बताया कि छात्रों को अपने अपने स्कूल में उपस्थित होना होगा और किसी बाह्य केंद्र पर नहीं ।

बोर्ड के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘ छात्रों को अपने स्कूल में उपस्थित होना होगा और किसी बाह्य केंद्र पर नहीं ताकि कम से कम यात्रा करनी पड़े । स्कूलों को यह सुनिश्चित करना होगा कि सामाजिक दूरी के दिशा निर्देशों का पालन हो और छात्रों को अपने साथ सैनिटाइजर और चेहरे का मास्क लाना होगा । ” गौरतलब है कि बोर्ड ने सोमवार को 10वीं एवं 12वीं कक्षा की लंबित परीक्षा की तिथियों की घोषणा कर दी थी जो 1-15 जुलाई के बीच होंगी और सामाजिक दूरी बनाये रखने के दिशा निर्देशों का सख्ती से पालन करना होगा ।

ये परीक्षाएं कोविड-19 के प्रसार के कारण स्कूल बंद होने और 25 मार्च से लागू लॉकडाउन के कारण स्थगित कर दी गई थी । 12वीं कक्षा के लिये लंबित परीक्षा पूरे देश में आयोजित होगी जबकि 10वीं कक्षा की शेष परीक्षा केवल उत्तर पूर्व दिल्ली के लिये आयोजित की जायेंगी । उत्तर पूर्व दिल्ली में नागरिकता संशोधन कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन के मद्देनजर कानून व्यवस्था की स्थिति के कारण परीक्षा स्थगित करनी पड़ी थी । मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा है कि परीक्षा परिणाम जुलाई के अंत तक घोषित करने के प्रयास किये जा रहे हैं । (एजेंसी)