जिंदगी में फिर से खड़े होने का जज्बा सिखाती है ”पंगा”

मुंबई, बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत की फिल्म 'पंगा'सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है.निर्देशक अश्विनी अय्यर तिवारी की फिल्म पंगा में एक कब्बडी खिलाड़ी की कहानी दिखाई गयी है. इस फिल्म में एक औरत की अपने

मुंबई, बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत की फिल्म ‘पंगा’सिनेमाघरों में रिलीज हो चुकी है.निर्देशक अश्विनी अय्यर तिवारी की फिल्म पंगा में एक कब्बडी खिलाड़ी की कहानी दिखाई गयी है. इस फिल्म में एक औरत की अपने करियर में फिर से वापसी करने की कोशिश को दिखाया गया है. एक औरत की जिंदगी में कितने उतर चढ़ाव आते है. यह सब इस फिल्म में बेहद अच्छे तरीके से दिखाया गया है.

फिल्म पंगा की कहानी जया निगम (कंगना रनौत )से शुरू होती है. जया एक समय कबड्डी की नैशनल प्लेयर और कैप्टन रही है.लेकिन शादी के बाद जया ने अपने पति प्रशांत (जस्सी गिल)और बच्चे आदि (यज्ञ भसीन) के लिए कबड्डी खेलना छोड़ दिया. खिलाडी होने के वजह से जया को रेलवे में नौकरी मिल गयी और वो अपने पनी छोटी-सी दुनिया में खुश है. फिर एक दिन घर में एक ऐसी घटना घटती है कि जया का बेटा आदि उसे 32 साल की उम्र में कबड्डी में कमबैक करने के लिए प्रेरित करता है. जया अपने पति के साथ फिर से कबड्डी में कमबैक करने की कोशिश करती है.अब जया  अपने सपनो की उड़ान लेते हुई इंडिया की नैशनल टीम में कमबैक करके अपने स्वर्णिम दौर को दोबारा जीना चाहती है.  जया के इस मुश्किल सफर में उसका पति, दोस्त मीनू (रिचा चड्ढा) और माँ  (नीना गुप्ता) उसके साथ होते है.  अब देखना यह है कि क्या जया अपना सपना पूरा कर पाती है या नहीं.

निर्देशक अश्विनी अय्यर तिवारी ने बेहद अच्छे तरीके से एक  मध्यम वर्गीय परिवार  में रहनेवाली औरत की कहानी दिखाने की कोशिश की है. अश्विनी जया, मीनू और मां नीना गुप्ता के चरित्रों के जरिए महिला सशक्तिकरण की बात करती हैं, मगर कहीं भी इन किरदारों को प्रीची नहीं होने देती. इस फिल्म के कई डायलॉग बेहद अच्छे है. निखिल मल्होत्रा और अश्विनी अय्यर तिवारी के लिखे संवाद चुटीले हैं.इस फिल्म के गाने भी दिल को छूने वाले है. यह फिल्म न केवल महिलाओं को प्रेरित करती है, बल्कि पुरुषों को भी प्रेरित करती है कि वे अपनी पत्नियों, मांओं, बेटियों, बहनों के सपनों को पूरा करने में सहयोग दें.

बात करे अन्य समीक्षकों की तो

नवभारत टाइम्स के मुताबिक , यह फिल्म आपको अपने सपने पुरे करने की प्रेरणा देता है. पंगा की कहानी में हर एक औरत अपनी कहानी देख सकती है. इस फिल्म को नवभारत टाइम्स ने पांच में से साढ़े तीन स्टार दिए है.

लाइव हिंदुस्तान के मुताबिक, इस फिल्म की कहानी सिंपल और सरल है. इस फिल्म में कंगना ने अपनी बेहतरीन एक्टिंग की है. इस फिल्म की सरलता ही इसकी ताकत है. यह फिल्म इमोशनल और प्रेरित करती है.  इस फिल्म को  लाइव हिंदुस्तान ने पांच में से तीन स्टार दिए है.