किसान आंदोलन को लेकर कंगना रनौत और दिलजीत दोसांझ के बीच छिड़ी जुबानी जंग, सोशल मीडिया पर की सारी हद्दे पार

सोशल मीडिया पर दिलजीत दोसांझ और कंगना रनौत के बीच जुबानी जंग छिड गई है...

  • कंगना रनौत और दिलजीत दोसांझ के बीच ट्विटर पर छिड़ी जुबानी जंग
  • दिलजीत दोसांझ का फूटा गुस्सा

बॉलीवुड अदाकारा कंगना रनौत (Kangana Ranaut) लगातार सोशल मीडिया पर ट्रोल हो रही है। हाल ही में कंगना ने किसान आंदोलन (Farmers Protest) पर अपनी राय रखते हुए प्रदर्शन में शामिल बुजुर्ग महिला के बारे में गलत शब्दों का प्रयोग किया था। जिसके बाद बिग बॉस कंटेस्टेंट्स रही चुकी हिमांशी खुराना (Himanshi Khurana) से लेकर कई बॉलीवुड सेलेब्स कंगना रनौत को भला-बुरा करते दिखाई दिए। अब इस लिस्ट में सिंगर कम एक्टर दिलजीत दोसांझ (Diljit Dosanjh) का नाम शामिल हो गया हैं।

सोशल मीडिया पर दिलजीत दोसांझ और कंगना रनौत एक दूसरे से बहस करते दिखाई दिए। दरअसल, किसान प्रदर्शन में शामिल बुजुर्ग महिला के बारे में कंगना रनौत की टिप्पणी के बाद दिलजीत दोसांझ ने जवाब देते हुए लिखा ‘किसी को इतना भी अंधा नहीं होना चाहिए।‘ 

एक्टर दिलजीत दोसांझ (Diljit Dosanjh) के ट्वीट का जवाब देते हुए अदाकारा ने लिखा ‘ओ करण जौहर के पालतू, जो दादी शाहीन बाग में अपनी नागरिकता के लिए लिए प्रदर्शन कर रही थी, वही बिलकिस बानो दादी जी किसानों के एमएसपी के लिए भी प्रदर्शन करती हुई दिखी। मैं महिंदर कौर जी को जानती भी नहीं। मुझे समझ नहीं आ रहा है कि क्या ड्रामा चल रहा है तुम लोगों का? इसे अभी खत्म करो?’

बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के ट्वीट का जवाब देते हुए दिलजीत दोसांझ ने लिखा ‘तूने अब तक जितने लोगों के साथ काम किया हैं तू उन सबकी पालतू है…? फिर लिस्ट बहुत लम्बी हो जाएगी तुम्हारें मालिकों की…? मैं बॉलीवुड से नहीं पंजाब से हूं… झूठ बोलकर लोगों को भड़काना और इमोशन से खेलना तुम अच्छे से जानती हो।

इसके बाद कंगना रनौत ने ट्विटर पर लिखा ‘ओ चमचे चल, तू चाट चाट कर जिसे काम लेता है, मैं उनकी रोज बजाती हूं. ज्यादा मत उछल, मेरा नाम कंगना रनौत हैं। मैं किसी की चमची नहीं हूं जिसके लिए झूठ बोलू। मैं सोशल मीडिया पर सिर्फ और सिर्फ शाहीन बाग वाली प्रोटेस्टर पर कमेंट किया है। अगर इस ट्वीट को कोई गलत साबित कर दे तो मैं मांग लूंगी।’ दिलजीत दोसांझ ने कंगना रनौत पर नाराजगी जाहिर करते हुए लिखा ‘तुम्हें बोलने की बिलकुल तमीज नहीं है।’