‘रामसे ब्रदर्स’ के कुमार रामसे का दिल का दौरा पड़ने से 85 साल की उम्र में निधन

    मुंबई: हॉरर फिल्मों के सरताज माने जाने वाले रामसे ब्रदर्स (Ramsay Brother) में से एक कुमार रामसे (Kumar Ramsay) का निधन हो गया है। कुमार रामसे का 85 साल की उम्र में निधन हो गया है। सोशल मीडिया पर कुमार रामसे को श्रद्धांजलि देने का सिलसिला जारी है। फैंस उनके द्वारा बनाई फिल्मों को याद कर रहे हैं। कुमार के बड़े बेटे गोपाल ने पीटीआई-भाषा को बताया कि कुमार ने मुंबई में हीरानंदानी में अपने आवास में अंतिम सांस ली। कुमार के परिवार में उनकी पत्नी शीला और तीन बेटे राज, गोपाल और सुनील हैं। 

    गोपाल ने कहा, ‘आज सुबह साढ़े पांच बजे दिल का दौरा पड़ने से उनकी मौत हो गई। वह हम सबको छोड़कर चले गए। अंतिम संस्कार करीब 12 बजे किया जाएगा। हम पुजारी के आने का इंतजार कर रहे है।’ बता दें कि कुमार फिल्म निर्माता एफ यू रामसे के बेटे और सात भाइयों में सबसे बड़े थे। रामसे भाइयों में केशु, तुलसी, करण, श्याम, गंगू और अर्जुन शामिल थे जिनका डरावनी फिल्मों के निर्माण में बोलबाला था। वे 70 और 80 के दशक में कम बजट वाली कल्ट ( खास समूह को पसंद आने वाली) फिल्में बनाते थे।

    रामसे बंधुओं में से तुलसी और श्याम ने हॉरर फिल्मों में दिलचस्पी दिखाई और हॉलीवुड की कॉपी करते हुए इंडियन मसाला शामिल करके भूतिया फिल्में बनानी शुरू की। इन दोनों ने मिलकर हॉरर फिल्मों का एक जबरदस्त ट्रेंड शुरू किया। रामसे ब्रदर्स ने परदे पर ऐसा खौफ बिखेरा कि वो इस जॉनर के मास्टर बन गए। रामसे ब्रदर्स ने अंधेरे से भरे थिएटर में डराकर दर्शकों का मनोरंजन करने के लिए हॉलीवुड फिल्मों से प्रेरणा ली और उस वक्त खुद को साबित किया जब दुनिया एंग्री यंगमैन के नाम से वाकिफ हो चुकी थी। उन दिनों रोमांटिक फिल्मों का दौर था। उस वक्त रामसे ब्रदर्स ने चांस लिया और हिंदी सिनेमा को मिली भूत, प्रेत, आत्मा और शैतान की कहानियां।

    कुमार रामसे ब्रदर्स की ज्यादातर फिल्मों की स्क्रिप्ट लिखने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाते थे जिनमें ‘पुराना मंदिर’ (1984), ‘साया’ और ‘खोज’ (1989) शामिल हैं। ‘साया में मुख्य भूमिका शत्रुघ्न सिन्हा ने निभाई थी और 1989 की हिट फिल्म ‘खोज’ में अभिनेता ऋषि कपूर और नसीरुद्दीन शाह मुख्य भूमिकाओं में थे। उन्होंने 1979 में ‘और कौन?’ तथा 1981 में ‘दहशत’ जैसी फिल्मों का भी निर्माण किया था।