Photo: Instagram
Photo: Instagram

    मुंबई: तारक मेहता का उल्टा चश्मा(Taarak Mehta Ka ooltah Chashmah) में बबीता जी का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस  मुनमुन दत्ता (Munmun Dutta) द्वारा जाने-अनजाने में की गई जातिसूचक टिप्पणी (Casteist Slur) को लेकर हाल ही में काफी बवाल देखने को मिला था। ये मामला अभी पूरी तरह से शांत भी नहीं हुआ था कि एक्ट्रेस युविका चौधरी (Yuvika Chaudhary) भी इसी तरह के विवाद में फंसती नजर आ गई। जिसके बाद उनके खिलाफ गिरफ्तारी मांग जमकर की गई थी। अब इस मामले में एक्ट्रेस के खिलाफ एफआईआर भी दर्ज हो गई है। 

    अमर उजाला की खबर के अनुसार एक्ट्रेस युविका चौधरी (Yuvika Chaudhary) के खिलाफ हांसी (हरियाणा) में केस दर्ज हुआ है। खबर के अनुसार हांसी पुलिस ने अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार अधिनियम के तहत एक्ट्रेस के खिलाफ केस दर्ज किया है। अनुसूचित जाति अधिकार मंच के कार्यकर्ता रजत कलसन ने 26 मई को हांसी में एक्ट्रेस के खिलाफ शिकायत दर्ज की थी। 

    खबर के अनुसार एफआईआर (FIR) अनुसूचित जाति व जनजाति अत्याचार अधिनियम की धारा 3 (1) (यू) के तहत दर्ज की गई है। आपको बता दें कि ये धारा गैर जमानती है और इसके साथ ही इसमें 5 साल तक की सजा का प्रावधान ही है। इससे साफ है कि अब एक्ट्रेस की मुसीबतें काफी बढ़ने वाली हैं। अब देखना होगा कि युविका को इस मामले में नोटिस कब सौंपा जाए। कहा जा रहा है कि शिकायतकर्ता ने एक्ट्रेस के वीडियो की क्लिप भी पुलिस को सौंपी है जिसमें वह जातिसूचक शब्द का प्रयोग कर रही हैं। जिसके बाद साइबर सेल द्वारा औपचारिक जांच के बाद शुक्रवार को केस दर्ज किया गया है।

    युविका ने सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो शेयर किया है। जिसमें प्रिंस नरूला अपना हेयरकट करवा रहे हैं और युविका वीडियो बना रही हैं। वीडियो बनाते हुए युविका कहती हैं कि ‘जब भी मैं व्लोग बनाती हूं तो मैं **** की तरह आकर खड़ी हो जाती हूं। मुझे इतना टाइम मिलता ही नहीं है कि अपने आप को ढंग से निखार सकूं। मैं बहुत बेकार लग रही हूं और प्रिंस मुझे तैयार होने का समय नहीं देता है।’

    ट्विटर यूजर्स का आरोप है कि युविका ने अपने हालिया यूट्यूब वीडियो में प्रिंस नरूला से बातचीत के दौरान जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया। वीडियो में देखा गया कि प्रिंस बैठकर अपने बाल कटवा रहे थे जब युविका ने उनके लिए ऐसे शब्द का इस्तेमाल किया जिसके कारण लोग भड़क उठे हैं और उनके खिलाफ SC/ST एक्ट की धाराओं के तहत कार्रवाई की मांग कर रहे हैं।