sonu-sood-launches-initiative-to-gift-e-rickshaws-to-underprivileged
Photo: Instagram

    मुंबई: देश में कोरोना का कहर लगातार बढ़ रहा है। कोरोना की वजह से इस वक़्त पूरा देश परेशान है। कोरोना महामारी से निपटने के लिए पूरी दुनिया संघर्ष कर रही है। ऐसे में नेता हो या अभिनेता कोई भी कोरोना के कहर से नहीं बच पा रहा है। रोजाना किसी न किसी एक्टर के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर सामने आ रही है। ऐसे में लोगों को वैक्सीन देने का काम तेजी से किया जा रहा है। बॉलिवुड सिलेब्स लोगों की हर तरह से मदद करने की कोशिश में हैं। सेलेब्स दवा, ऑक्सीजन, भोजन आदि से मदद कर रहे हैं। सोनू सूद(Sonu Sood) आज भी लोगों की मदद करने में लगातार लगे हुए हैं। लोग सोशल मीडिया के जरिए और उनके घर पहुंचकर मदद की गुहार लगाते रहते हैं। सोनू सूद कोरोना मरीजों की भी हर तरीके से मदद कर रहे हैं। 

    लेकिन हाल ही में सोनू सूद ने बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay HighCourt) में अपील की है कि कुछ लोग उनका नाम खराब करने की नीयत से उनके खिलाफ काम कर रहे हैं. जबकि वो सिर्फ लोगों की मदद करने के लिए अपना दिन रात एक किए हुए हैं। मामला सोनू सूद के खिलाफ दायर एक याचिका का है जिसमें बॉम्बे हाईकोर्ट से अपील की गई थी कि सोनू सूद और एमएलए जीशान सिद्दीकी को उस वक्त कोविड 19 की रेमडेसिवर जैसी जीवन बचाने वाली दवाएं कैसे मिलीं जब इन दवाओं की बाजार में भारी कमी थी। 

    इस मामले में हाईकोर्ट ने 15 दिन पहले मुंबई पुलिस को जांच के आदेश दिए थे और कहा था कि पुलिस पता लगाए कि इन प्रभावशाली लोगों ने ये दवाएं कैसे हासिल की। सोनू सूद अब ये चाहते है की इस मामले में हाई कोर्ट दखल दे क्योंकि इन दवाइयों की वजह से ही लाखों लोगों की जान बची हैं। सोनू सूद अब चाहते हैं कि हाईकोर्ट इस केस में दखल दे क्योंकि उन्होंने इन दवाओं को लोगों के लिए ऐसे वक्त में मुहैया करवाया था जब ये दवाएं कहीं नहीं मिल रही थीं और इससे काफी लोगों की जिंदगी को बचाया गया। सोनू सूद का दावा है कि उन्होंने इन दवाओं को मुहैया करने का फैसला तब लिया जब लोग लगातार उनसे संपर्क कर रहे थे और उन्हें दवाएं नहीं मिल पा रही थीं क्योंकि बाजार में इनकी भारी कमी थी और हर किसी के लिए इन्हें पाना करीब-करीब नामुमकिन हो गया था।