Sushant Death Case: We are speechless even if now CBI inquiry is not trusted: Sanjay Raut

शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखे लेख में संजय राउत ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर काफी खुलासे किए है।

मुंबई. बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की सुसाइड के बाद बॉलीवुड में तूफान आ गया है। हर कोई सुशांत की मौत के बारे में बाते कर रहा है। वही, पुलिस भी इस मामले में कड़ी करवाई कर रही है। पुलिस इस मामले में हर बात की गहराई से जांच कर रही है। इसी बीच शिवसेना सांसद संजय राउत ने इस मामले में सवाल उठाए है। उन्होंने मुंबई पुलिस से इस मामले में इतनी छानबीन क्यों की जा रही है यह सवाल किया है। इसके अलावा उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत के ‘मानसिक स्वास्थ्य’ के बारे में भी बात कही है।

शिवसेना के मुखपत्र सामना में लिखे लेख में संजय राउत ने सुशांत सिंह राजपूत की मौत को लेकर काफी खुलासे किए है। संजय राउत ने कहा, सुशांत की मौत को लगभग महिना भर हो रहा है फिर भी हर कोई बस इसी मामले की बात कर रहा है। उन्होंने आगे कहा कि सुशांत की मौत के बाद देश में बहुत कुछ हुआ है लेकिन,इस तरफ किसी का भी ध्यान नही जा रहा है।

उन्होंने आगे सामना में लिखा, सुशांत की पोस्ट-मार्टम रिपोर्ट में यह साफ़ बताया गया है कि एक्टर की मौत फांसी लगने के बाद सांस रुकने के वजह से हुई है। तो अब इस मामले में खोजा जाए, ऐसा क्या बचा है? पुलिस इस मामले में निश्चित तौर पर किसकी जांच कर रही है? बीते कुछ समय से एक्टर डिप्रेशन में था। उसकी मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी। लगातार मिल रही नाकामी से हताश होकर एक्टर ने आत्म्ह्या करने का फैसला लिया। सुशांत की मौत के बाद बॉलीवुड और म्यूजिक इंडस्ट्री में नेपोटिज्म पर विवाद शुरू हो गया है।

संजय राउत ने आगे कहा, देश में कोरोना के चलते रोज हजारों लोगों की जान जा रही है। हर कोई इस महामारी से बचने के लिए नए नए तरीके ढूंड रहा है। वही, दूसरी तरफ चीन हमला में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए। लेकिन, लोगों को सुशांत मामले के अलावा और कुछ नजर ही नही आ रहा है। उन्होंने एक व्यक्ति के आत्महत्या का उदाहरण दिया है। उन्होंने बताया कि, पुणे में रहनेवाले राजेंश शिंदे नाम के एक शख्स ने लॉकडाउन के कारण नौकरी जाने से अपने पूरे परिवार (पत्नी और दो बच्चियों) सहित आत्महत्या कर ली। इस मामले की फ़ाइल भी बंद कर दी गयी है। 

आगे संजय राउत ने एक बड़ी बात का खुलासा किया है। उन्होंने लिखा, ‘बालासाहेब ठाकरे की बायोपिक के बाद हम जॉर्ज फर्नांडीस की बायोपिक पर काम करने वाले थे। इस बायोपिक के लिए हमने 2-3 एक्कोटर को शॉर्टलिस्ट किया था।बता दे कि सुशांत उनमें से एक थे। लेकिन, बाद में मुझे बताया गया कि वह एक प्रतिभाशाली एक्टर होने के बावजूद अभी मानसिक रूप से स्थिर नहीं है। वह डिप्रेशन में है। वह अक्सर फिल्म के सेट पर अजीब तरह से व्यवहार करता है, जिसके कारण सभी को काफी समस्जोया होती थी। वही, बॉलीवुड के कुछ लोगों का कहना है कि सुशांत ने खुद ही अपने हाथों से अपना करियर को तबाह कर लिया।’