Kangana Ranaut, Karan Johar and Ekta Kapoor
Photo: Twitter@rashtrapatibhvn

    नयी दिल्ली. राष्ट्रपति भवन में यहां सोमवार को फिल्म निर्माता करण जौहर, एकता कपूर, अभिनेत्री कंगना रनौत, टेलीविजन एवं फिल्म अभिनेत्री सरिता जोशी, पार्श्व गायक सुरेश वाडकर तथा संगीतकार अदनान सामी सहित 61 व्यक्तियों को वर्ष 2020 के लिए देश का चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म श्री प्रदान किया गया। राष्ट्रपति कार्यालय द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 73 व्यक्तियों को पद्म पुरस्कार प्रदान किये, जिनमें से कुछ को मरणोपरांत सम्मानित किया गया। इनमें वर्ष 2020 के लिए चार पद्म विभूषण, आठ पद्म भूषण और 61 पद्म श्री पुरस्कार शामिल हैं।

    जौहर ने कहा कि पद्म श्री पुरस्कार हासिल करना एक सपना के पूरा होने जैसा है। उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसे राष्ट्रपति कोविंद के हाथों से ग्रहण कर बहुत सौभाग्यशाली महसूस कर रहा हूं।”

    एकता कपूर को टीवी, फिल्म और डिजिटल सामग्री के क्षेत्र में उनके योगदान को लेकर पद्म श्री से सम्मानित किया गया। वह ‘क्यूंकि सास भी कभी बहू थी’, टीवी धारावाहिक और ‘वंस अपोन ए टाइम इन मुंबई’, ‘द डर्टी पिक्चर’, जैसी फिल्मों और वेब सीरिज ‘बोस: डेड/एलाइव’ आदि बनाने को लेकर जानी जाती हैं। अभिनेता जितेंद्र और शोभा कपूर की बेटी एकता ने कहा कि ‘परफॉर्मिंग आर्ट्स’ के क्षेत्र में अपने योगदान को लेकर चौथा सर्वोच्च नागरिक सम्मान प्राप्त करने पर वह सम्मानित महसूस कर रही हैं।

    उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘यह गर्व का क्षण है। मैं इसे अपनी मजबूती-मेरी मां और पिता को समर्पित करना चाहती हूं। मैं अपने परिवार, मित्रों, बालाजी टेलीफिल्म्स में अपनी टीम और सबसे अधिक दर्शकों का शुक्रिया अदा करना चाहती हूं।”

    रनौत ने पद्म श्री से सम्मानित किये जाने को लेकर अपना आभार जताते हुए कहा, ‘‘यह भारत की एक बेहतरीन नागरिक होने के लिए है।” उन्हें दो सप्ताह पहले ही सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के उनके चौथे राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया था। रनौत ने अपने आधिकारिक इंस्टाग्राम पेज पर एक वीडियो पोस्ट में कहा, ‘‘एक कलाकार होने के नाते , मैंने कई पुरस्कार, प्रेम और सराहना पाई है लेकिन आज मैंने इस सरकार से देश का एक बेहतरीन नागरिक होने का पुरस्कार ग्रहण किया। मैं आभारी हूं।”

    उन्होंने कहा, ‘‘जब मैंने छोटी सी उम्र में काम करना शुरू किया था, आठ-दस साल के अपने करियर में मुझे सफलता नहीं मिली थी। मैंने गोरा बनाने का दावा करने वाले उत्पादों का विज्ञापन ठुकरा दिया, आइटम सॉंग का बहिष्कार किया, बड़े नायकों और बड़े प्रोडक्शन हाउस की फिल्मों में काम करने से इनकार कर दिया था।”

    अपने भड़काऊ बयानों को लेकर चर्चा में रहने वाली अभिनेत्री ने कहा कि यह सम्मान कई लोगों का मुंह बंद कर देगा जो अक्सर उनसे कहा करते हैं कि वह राष्ट्रीय महत्व के विषयों को लेकर चिंतित क्यों रहती हैं। उन्होंने कहा, ‘‘मैंने पैसों से अधिक दुश्मन बनाये हैं।” उन्होंने कहा कि वह यह संख्या भी भूल गई हैं कि उनके खिलाफ अभी कितने कानूनी मामले हैं।”

    ‘ऐ जिंदगी गले लगा ले’ और ‘तुमसे मिलके’ तथा ‘मेघा रे’ जैसे गीतों को अपना स्वर देने वाले वाडकर ने कहा कि वह यह सम्मान हासिल कर खुश हैं। वाडकर ने कहा, ‘‘हालांकि यह कुछ देर से आया, लेकिन मैं खुश हूं कि देश ने मेरे योगदान को स्वीकार किया। यह (पद्म श्री) किसी कलाकार के लिए सबसे बड़े सम्मान में एक है और इसने मुझे संगीत के क्षेत्र में और बेहतर करने के लिए प्रेरित किया है।”

    कला के क्षेत्र में पद्म श्री हासिल करने वाली जोशी, ‘बा बहू और बेबी’, ‘मेरी आशिकी तुमसे है’ और ‘हसरतें’ जैसे धारावाहिकों को लेकर जानी जाती हैं। उन्होंने छह दशक से अधिक लंबे अपने करियर में गुजराती, मराठी और हिंदी में करीब 15,000 शो में अभिनय किया है। सामी को भी कला के क्षेत्र में योगदान को लेकर पद्म श्री से सम्मानित किया गया।

    पाकिस्तानी मूल के संगीतकार व गायक 2016 में भारतीय नागरिक बने थे। उन्होंने कुछ पोस्ट नहीं किया, बस बधाई संदेश को रीट्वीट किया। पिछले साल पद्म श्री पुरस्कार की घोषणा होने पर सामी, पाकिस्तान वायु सेना में अपने पिता के करियर को लेकर राजनीतिक बहस के केंद्र में रहे थे। पुरस्कार वितरण कार्यक्रम में उप राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित थे। (एजेंसी)