Subhash Ghai
Photo - File

    मुंबई : सुभाष घई (Subhash Ghai) 24 जनवरी को 80 साल के हो गए हैं, लेकिन उनके अपने शब्दों में कहे तो, उन्हें लगता है कि वह “अभी भी 40 साल के हैं और अभी भी शरारती हैं।” वह हँसते हुए आगे कहते हैं कि वह बर्थडे पर्सन नहीं हैं उन्हें अपना जन्मदिन मनाना इतना पसंद नहीं हैं। वह आगे कहते हैं मुझसे ज्यादा मेरा परिवार मेरे बर्थडे के लिए उत्साहित रहते हैं और वे मुझसे ज्यादा मेरे बर्थडे को सेलिब्रेट करना चाहते हैं। लेकिन मेरा जन्मदिन मेरे लिए किसी अन्य दिन की तरह ही होता है। मैं उठता हूं, व्यायाम करता हूं और काम पर निकल जाता हूं।

    वह आगे कहते हैं, ‘मैं आज भी सुबह 7 बजे उठता हूं और रोजाना 10 घंटे काम करता हूं। मैं उतना ही अच्छा हूं जितना मैं 40 साल का था, मुझे अपनी कैलेंडर उम्र का कभी एहसास नहीं हुआ।”सुभाष घई ने कर्ज (1980), मेरी जंग (1985), कालीचरण (1976), परदेस (1997) जैसी कई हिट फिल्मों के निर्देशक किया है और अभी भी एक वेब सीरीज और फिल्मों में व्यस्त हैं। उनमें से एक में वे क्रिएटिव डायरेक्टर भी हैं। सुभाष घई आगे बताते हैं कि उन्होंने आजतक उनका किया हुआ काम नहीं देखा है।’ 

    सुभाष आएगी कहते हैं “मैंने हमेशा अलग-अलग फिल्में बनाई हैं। मैंने एक यादें बनाई और एक ब्लैक एंड व्हाइट भी। खलनायक, राम लखन… हर फिल्म मेरे लिए एक अलग प्रयोग रही है। मैं खुद को दोहराना कभी पसंद नहीं करता। जिस क्षण एक फिल्म खत्म हो जाती है, वह मेरे लिए हमेशा के लिए खत्म हो जाती है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि मैंने अपनी पिछली फिल्में कभी नहीं देखीं। जब भी टीवी पर मेरी फिल्म आती है मैं बस मुस्कुरा देता हूं और चैनल बदल देता हूं। मुझे उस समय के दर्शक याद हैं कि कैसे थिएटर में लोअर और अपर स्टॉल होता था, बालकनी होती थी।”

    लेकिन समय के साथ, जनता के साथ जुड़ाव एक अस्थिर परिवर्तन से गुजरता हुआ प्रतीत हुआ। फिल्में आज मुख्य रूप से पहले सप्ताह में हुए कलेक्शन के बारे में हैं, बजाय इसके कि वे सिनेमाघरों में कितने समय तक रहीं। बहुत कुछ बदल गया है। उन्हें लगता है कि पश्चिम देशों में शूटिंग कैसे किया जाता है, इसके प्रति आकर्षण ने निश्चित रूप से हमारी संवेदनाओं असर किया है। फिल्म निर्माता कहते हैं, “हम भारतीय हैं और हमारे पास भारतीय दर्शक हैं। मैं एक भारतीय हूं और भारतीय सिनेमा बनाता हूं, इसमें मैं साफ हूं। मैं हमेशा भारतीय दर्शकों के लिए भारतीय फिल्में बनाता हूं।