एक्टिंग के दम पर चंकी पांडे ने बनाई पहचान, असफलता के बाद बांग्लादेशी फिल्मों का किया रुख

    Chunky Pandey made an identity on the basis of acting, turned to Bangladeshi films after failure: हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के दमदार अभिनेता चंकी पांडे (Chunky Panday) आप अपना जन्मदिन मना रहे है। उनका जन्म मुंबई में 26 सितंबर 1962 को हुआ था। उनके मां का नाम स्नेहलता पांडे और पति का नाम शरद पांडे था। बड़े पर्दे पर चंकी पांडे पहली बार संजय दत्त की डेब्यू फिल्म ‘रॉकी’ में नजर आए थे। इसमें वह काफी छोटे किरदार में दिखाई दिए थे। इसके बाद चंकी पांडे बतौर सपोर्टिंग रोल में धर्मेन्द्र और मौसमी चटर्जी के साथ फिल्म ‘आग ही आग’, अनिल कपूर के साथ फिल्म ‘तेजाब’, ‘पाप की दुनिया’, ‘खतरों के खिलाड़ी’, ‘घर का चिराग’, ‘कोहराम और विश्वात्मा’ जैसी बेहतरीन फिल्मों में दिखाई दिए। लीड अभिनेता के तौर पर चंकी पांडे असफल साबित हुए थे लेकिन सपोर्टिंग एक्टर के तौर पर दर्शकों ने हमेशा ही अभिनेता को काफी पसंद किया। 

    कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया कि बॉलीवुड में असफलता मिलने के बाद चंकी पांडे ने साउथ इंडस्ट्री के बजाय बांग्लादेशी फिल्म इंडस्ट्री की तरफ रुख किया। वहां चंकी पांडे को छप्पर फाड़ कर कामयाबी मिली। दर्शकों ने उनके अभिनय को काफी पसंद किया और अभिनेता की फिल्में बांग्लादेशी फिल्म इंडस्ट्री में सुपरहिट साबित हुई। बांग्लादेश की भाषा नहीं आने के बावजूद लोगों के बीच उनकी पहचान एक सुपरस्टार के तौर पर होने लगी। 

     

     
     
     
     
     
    View this post on Instagram
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Chunky Panday (@chunkypanday)

    बॉलीवुड में चंकी पांडे को भले ही कामयाबी ना मिली हो लेकिन इस दौरान उन्हें बॉलीवुड और सोशल मीडिया पर कई बार ट्रोल किया गया। अवॉर्ड नाइट्स में उनका नाम लेकर मजाक किया गया इसके बावजूद चंकी पांडे ने खुले मन से सब स्वीकार किया और शांति से अपना काम करते रहे। चंकी पांडे की बेटी अनन्या पांडे इन दिनों काफी चर्चा में है। अनन्या का बॉलीवुड डेब्यू काफी अच्छा रहा है। वह आने वाले दिनों में बॉलीवुड की कई बेहतरीन फिल्मों में अहम किरदार अदा करती दिखाई देंगी।