‘थलाइवी’ की असफलता के बाद उद्धव पर भड़की कंगना रनौत, बोलीं- ‘थिएटर कल्चर हमेशा के लिए खत्म करना चाहती है सरकार…’

    Kangana Ranaut furious at Uddhav after the failure of ‘Thalaivi’, said- ‘Government wants to end theater culture forever…’: बॉलीवुड की बड़बोली अदाकारा कंगना रनौत (Kangana Ranaut) इन दिनों अपनी रिलीज फिल्म ‘थलाइवी’ (Thalaivii) को लेकर चर्चा में बनी हुई है। इस फिल्म में अभिनेत्री तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की भूमिका में दिखाई दी थी। फिल्म में उनकी जीवन गाथा नजर आ रही  है। इस फिल्म को मेकर्स ने बिग बजट के साथ बनाया। साथ ही ‘थलाइवी’ को हिंदी के अलावा तमिल और तेलुगु भाषा में भी रिलीज किया गया। कंगना रनौत ने मेकर्स के साथ मिलकर ‘थलाइवी’ को कोरोना के बीच रिलीज करने का फैसला लिया था। जब फिल्म ‘थलाइवी’ भारत के कई राज्यों में रिलीज हुई तब कोरोना महामारी के कारण लॉकडाउन था। साथ ही कई राज्यों में थिएटर भी बंद थे। ऐसे में कंगना रनौत की फिल्म ‘थलाइवी’ को भारी नुकसान का सामना करना पड़ा। 

    ऐसे में कंगना रनौत (Kangana Ranaut) अपना गुस्सा उद्धव सरकार पर निकालती दिखाई दी। क्योंकि कोरोना महामारी के वजह से उद्धव सरकार ने महाराष्ट्र में थिएटर खोलने की अनुमति नहीं दी हैं। मुंबई और महाराष्ट्र के अन्य शहरों में जब हिंदी रिलीज होती है तो वहां पर थिएटर जाने वाले दर्शकों को संख्या ज्यादा होती हैं। कंगना ने अपनी भड़ास निकालते हुए अपने सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा ‘मुझे लगता है महाराष्ट्र सरकार तब तक सिनेमाघरों को बंद रखेंगे जब तक फिल्म इंडस्ट्री से थियेटर का कल्चर पूरी तरह खत्म नहीं हो जाता। उन्हें आर्टिस्ट्स, प्रोड्यूसर्स, डिस्ट्रीब्यूटर्स और सिनेमाघर संचालकों की किसी तराह की कई चिंता नहीं है। इस पूरे मामले पर बॉलीवुड ने चुप्पी क्यों साधी रखी है। क्या आप लोग दुनिया के सबसे बेस्ट सीएम से यह सवाल नहीं पूछ सकता।’

     
     
     
     
     
    View this post on Instagram
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Kangana Ranaut💎 (@kangana_gem)

     

    कंगना ने आगे अपने पोस्ट में लिखा ‘महाराष्ट्र में कोरोना मरीजों की संख्या कम हो रही है। इस कारण वह थिएटर व्यवसाय को फिर से शुरू कर सकते है। इसके बावजूद वह कुछ नहीं कर रहे हैं। कई राज्यों में राज्य सरकार ने सिनेमाघर को 50% की क्षमता पर खोले की अनुमति दी है।‘