प्रियंका चोपड़ा ने शेयर किया अपना ‘द मैट्रिक्स रेसरेक्शन्स’ में काम करना शानदार अनुभव

    मुंबई: अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा (Priyanka Chopra) का कहना है कि ‘द मैट्रिक्स रिसरेक्शन्स’ (The Matrix Resurrections) में काम करते हुए पहले उन्हें असहज महसूस हो रहा था,लेकिन बाद में यह एक शानदार अनुभव रहा। साइंस फिक्शन फिल्मों की श्रेणी में आने वाली इस फिल्म की कथा और इसका निर्देशन किया है लाना वाचोव्स्की ने और इसमें उनकी मदद की है कि उनकी बहन लिली ने। मैट्रिक्स श्रृंखला की यह चौथी फिल्म है। इससे पहले 1999 में आई थी ‘द मैट्रिक्स’, फिर 2003 में आई थी ‘द मैट्रिक्स रीलोडेड’ और ‘द मैट्रिक्स रवोल्यूशन’।

    फिल्म के एक्शन दृश्यों के बारे में पूछे जाने पर प्रियंका ने कहा कि ऐसे तो उन्होंने बॉलीवुड में कई फिल्मों में स्टंट किए हैं, लेकिन सती का चरित्र निभाने के लिए उन्हें किसी प्रकार के शारीरिक प्रशिक्षण की आवश्यकता नहीं पड़ी। प्रियंका ने लॉस एंजिलिस से ‘पीटीआई-भाषा’ को जूम पर दिए साक्षात्कार में कहा,‘‘ जब महिलाओं की बात आती है, खासतौर पर ‘द मैट्रिक्स रिसरेक्शन्स की, तो इसमें बेहद शक्तिशाली महिला का चरित्र लीड रोल में है… मेरा मानना है कि यह हमारे निर्देशक के लिए बेहद जरूरी था। ये उनके लिए बहुत मायने रखता था और उन्होंने इसके बारे में बात की थी।” 

    ‘द मैट्रिक्स रिसरेक्शन्स’ पुरानी फिल्मों के पात्रों को नए चरित्रों के साथ पेश करती है। इसमें किएनू रीव्स नियो के रूप में, कैरी-ऐनी मॉस ट्रिनिटी के रूप में और जैडा पिंकेट स्मिथ नीओब के रूप में लौटे हैं। प्रियंका ने कहा कि वह इस फिल्म श्रृंखला में खुद को जोड़े जाने से सम्मानित महसूस कर रही हैं। यह फिल्म भारत में 22 दिसंबर को अंग्रेजी, हिंदी ,तमिल और तेलुगु भाषा में प्रदर्शित होगी।