Lata Mangeshkar

    मुंबई: आज है मशहूर गायिका लता मंगेशकर (Lata Mangeshkar) का जन्मदिन। आज यानी 28 सितंबर को अपना 92वां जन्मदिन मना रही हैं। उनका जन्म 1929 को मध्यप्रदेश के इंदौर में हुआ था। लता मंगेशकर की जिंदगी संघर्षों से भरी रही। अपना भाई-बहन को पालने के लिए लता ने शादी तक नहीं की।

    लता मंगेशकर ने करीब 50 हजार से ज्यादा गाने आए है। लता मंगेशकर ने करीब 36 अलग अलग भाषाओं में गाना गया है। लता में अपने नाम भारत रत्न, पद्म विभूषण, पद्म भूषण और दादासाहेब फाल्के अवॉर्ड जिसे कई अवॉर्ड अपने नाम किया है। 

     
     
     
     
     
    View this post on Instagram
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Lata Mangeshkar (@lata_mangeshkar)

    लता मंगेशकर ने 13 साल की उम्र में अपने करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने मराठी फिल्मों में एक्टिंग की थी। ‘किती हासिल’ नाम की मराठी फिल्म में उन्होंने मराठी गीत भी गाया था हालांकि गीत को फिल्म में शामिल नहीं किया गया, लेकिन गायकी का उनका सफर वहीं से शुरू हुआ। लेकिन लता इस फिल्म के बाद भी काफी संघर्षों का सामना करना पड़ा।

    लता का सितारा पहली बार 1949 में चमका और ऐसा चमका कि उसकी कोई मिसाल नहीं मिलती, इसी वर्ष चार फिल्में रिलीज हुई, ‘बरसात’, ‘दुलारी’, ‘महल’ और ‘अंदाज’। ‘महल’ में उनका गाया गाना ‘आएगा आने वाला आएगा’ के फौरन बाद हिंदी फिल्म इंडस्ट्री ने मान लिया कि यह नई आवाज बहुत दूर तक जाएगी।

     
     
     
     
     
    View this post on Instagram
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Lata Mangeshkar (@lata_mangeshkar)

     
     
     
     
     
    View this post on Instagram
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     
     

    A post shared by Lata Mangeshkar (@lata_mangeshkar)

    लेकिन क्या आपको पता है साल 1962 में लता मंगेशकर को किसी ने जहर दे दिया था। इस बात का जीकर लता ने अपनी किताब ‘ऐसा कहां से लाऊं’ की बताई थी। उन्होंने लिखा था- ‘एक दिन सुबह मुझे उल्टियां होने लगी थी। पेट में बहुत दर्द। मेरा पूरा शरीर ढीला पड़ गया था। लेखिका पद्मा सचदेव के अनुसार लता के शरीर से हरे रंग की कोई चीज निकली थी। इस स्लो प्वॉइजन से वे इतनी कमजोर हो गई थीं कि चल भी नहीं पाती थीं। गाना गाने से उनकी आंतें अकड़ जाती थीं। उन्हें कम से कम तीन महीने का बिस्तर पर आराम करना पड़ा। हालांकि वो जहर किसने दिया इसका आज भी पता नहीं चल सका है।