महामारी के दौरान एक पहल, फैशन वेस्ट को कम करने में करेगी मदद

आज के दौर में फैशनेबल रहना मानों सबसे ज़रूरी चीज़ हो गई है। वहीं वर्तमान समय में फैशन-फॉरवर्ड होने का मतलब है, हर चीज़ में अपडेट रहना और ट्रेंड वाली चीज़ों को अपनाना। लेकिन जैसे-जैसे फैशन का ट्रेंड आगे बढ़ रहा है, वैसे ही कई ज़्यादा फैशन वेस्ट की वृद्धि भी हो रही है। जिसके कारण पर्यावरण को भी नुकसान पहुंच रहा है। 

फैशन डिज़ाइनर लीना सिंह और रीना ढाका द्वारा एनजीओ के सहयोग से RE.purposed पहल का उद्देश्य फैशन वेस्ट का उपयोग कर पुनः मास्क, बेडशीट, तकिया कवर आदि जैसे उपयोगी चीज़ों को बनाना है।

वास्तव में देखा जाता है कि फैशन इंडस्ट्रीज़ हर साल लगभग 92 मिलियन टन कपड़ा बर्बाद करता है। जो विश्व स्तर पर हर सेकंड, वस्त्रों का एक ट्रक कचरे के समान, लैंडफिल में चला जाता है या फिर जला दिया जाता है। लेकिन इसके सकारात्मकता को देखा जाए तो इस बर्बाद कपड़ों की कोरोना महामारी के दौरान काफी मांग हुई है। 

इसी मांग को देखते हुए और अवधारणा की सहायता करने के लिए, स्थायी फैशन COVID-19 प्रतिक्रिया अभियान, RE-Think के तहत एक अधिनियम बनाया गया जो RE PROPOSED कहलाता है। यह पहल उपभोक्ताओं और फैशन हितधारकों के बीच सामाजिक निष्पक्षता, फैशन, समृद्ध भारतीय कपड़ा विरासत और वातावरण पर फैशन विकल्पों के प्रभाव के बारे में जागरूकता करता है। 

भारत सरकार ने अपने “Vocal for Local” पहल में लोगों को स्थानीय उत्पाद खरीदने के लिए प्रोत्साहित किया है, जिससे स्थानीय समुदायों का समर्थन हो रहा है। R. Proposed पहल स्थानीय समुदायों और उनके शिल्प के लिए सरकार के समर्थन को बढ़ाने के दृष्टिकोण के साथ जुड़ा हुआ है। यह पहल परंपरा और शिल्प का एक आदर्श मिश्रण है,” रीना ढाका ने सोशल स्टोरी को बताया।