सूरत के फैशन डिज़ाइनिंग के छात्रों ने पीपीई किट को बनाया गरबा ड्रेस

नवरात्रि की धूम पूरे देश में देखी जाती है, लेकिन इस साल कोरोना महामारी की वजह से यह त्यौहार थोड़े फीके अंदाज़ में मनाया जाएगा। नवरात्रि का जोश तो गुजरात में देखने योग्य होता है, वहां का गरबा सबसे प्रसिद्ध माना जाता है। लेकिन कोरोना के कारण लोगों का इस त्यौहार के प्रति उत्साह काम न हो जाए इस बात का ध्यान रखते हुए फैशन डिज़ाइनिंग के छात्रों के एक समूह ने एक ऐसा गरबा ड्रेस डिज़ाइन किया है, जिसे देख आप भी कहेंगे वाह! क्या ड्रेस है। 

सूरत के इंस्टीट्यूट ऑफ डिज़ाइन एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों ने पीपीई किट को गरबा ड्रेस में तब्दील किया है। छात्रों ने पीपीई किट जिसे कोरोना ड्रेस के नाम से भी जाना जाता है, उस ड्रेस को पॉलीप्रोपाइलीन फैब्रिक का इस्तेमाल कर एक शानदार ड्रेस बनाया है। पॉलीप्रोपाइलीन फैब्रिक का इस्तेमाल करने के लिए छात्रों में साउथ इंडिया टेक्सटाइल रिसर्च एसोसिएशन से स्वीकृति प्राप्त की है। इस गरबा डिज़ाइन की पीपीई किट पहनकर छात्र समूह ने गरबा भी किया। 

देशभर के लोग अब छात्रों के हुनर और मेहनत की लोग तारीफ कर रहे हैं, साथ ही इस नई गरबा ड्रेस को खरीदने में दिलचस्पी भी दिखा रहे हैं। वहीं इंस्टीट्यूट के मुताबिक, फैकल्टी के मार्गदर्शन में आईडीटी इंडिया की प्रथम वर्ष की छात्रा आरुषि उप्रेती ने कोविड गरबा परिधान का खाका खींचा। उसने इसे इस पीपीई किट को सजाने के लिए चित्रकारी एवं शीशों का इस्तेमाल किया। उसने पीपीई जंपसूट पर दो परत वाली गरबा ड्रेस बनाई साथ ही सुरक्षा का भी पूरा ध्यान रखा।