जिले में शतप्रतिशत स्कूले रहीं बंद

  • अन्यायकारक आदेश रद्द करने की मांग
  • आंदोलन को विभीन्न संगठनों का समर्थन 

गडचिरोली. सरकार ने राज्य के मान्यता प्राप्त निजी अंशता, पूर्णता अनुदानीत माध्यमिक व उच्च माध्यमिक स्कूलों के चतुर्थश्रेणी कर्मचारियों के लिए निर्गमित किए गए 11 दिसंबर 2020 के अन्यायकारक आदेश के खिलाफ महाराष्ट्र राज्य शिक्षा संस्था महामंडल के आह्वान के अनुसार गडचिरोली जिला शिक्षा संस्था संचालक मंडल व अन्य शैक्षणिक संगठनों की ओर से शुक्रवार 18 दिसंबर को ऐलान किए गए स्कूल बंद आंदोलन को जिले में व्यापक प्रतिसाद मिला है. इस आंदोलन के दौरान जिले के सभी स्कूलें बंद रखी गई थी. 

सरकार के 18 मई 2015 के परिपत्रक के अनुसार शिक्षकेत्तर कर्मचारियों का सुधारीत आकृतीबंध करने के लिए शिक्षा आयुक्त इनके अध्यक्षता में समिति गठीत की गई थी. उक्त समिति की रिपोर्ट सरकार को सौंपे जाने के बाद 28 जनवरी 2019 को जारी किए गए सरकारी परीपत्रक के तहत चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के पदभर्ती के आकृतिबंध के संदर्भ में स्वतंत्र आदेश निर्गमित करने का घोषित किया गया था. चतुर्थ श्रेणी कर्मचारियों के लिए आकृतिबंध करने संदर्भ का 11 दिसंबर 2020 को आकृतीबंध निर्गमित किया है.

इस आदेश के तहत केवल सिपाही पद के पूर्व के आकृतिबंध के तहत अपेक्षीत चतुर्थ श्रेणी के पद ऐसी वाक्यरचना की गई है. जिससे यह निर्णय गैरकानुन होने से वह रद्द करे, इस मांग को लेकर आज शुक्रवार जिला शिक्षा संस्था संचालक मंडल व अन्य शैक्षणिक संगठनों के स्कूल बंद का आह्वान किया था. इस बंद के अनुसार जिले के शतप्रतिशत स्कूल के मुख्याध्यापकों ने अपनी स्कूले बंद रखते हुए आंदोलन में सहभाग दर्शाया. इस संदर्भ की रिपोर्ट शिक्षणाधिकारी की ओर भेजा गया.

सरकार ने मांग मान्य न करने पर 4 जनवरी को बेमियादी स्कूल बंद आंदोलन करने की चेतावनी भी महाराष्ट्र राज्य शिक्षा संस्था महामंडल को दिया गया है. मांग का ज्ञापन प्रतिनिधी मंडल द्वारा अतिरीक्त जिलाधिकारी तलपादे इनके मार्फत सरकार को पेश किया गया है.

स्कूल बंद आंदोलन में जिला शिक्षा संस्था चालक मंडल के अध्यक्ष अनिल पाटील म्हशाखेत्री, सचिव जयंत येलमुले, विदर्भ माध्यमिक शिक्षक संगठना के अध्यक्ष दत्तात्रय खरवडे, सचिव अजय लोंढे, महाराष्ट्र राज्य शिक्षा परीक्षक के अध्यक्ष संतोष सुरावार, सचिव गोपाल मुनघाटे, विजुक्टा के धर्मेद्र मुनघाटे, डा. पंजाबराव देशमुख राष्ट्रीय शिक्षा परिषद के प्रा. शेषराव येलेकर, शिक्षकेत्तर कर्मचारी संगठना के अध्यक्ष अविनाश चडगुलवार, सचिव संजय मल्लेलवार, जिला माध्यमिक व उच्च माध्यमिक मुख्याध्यापक संघ के अध्यक्ष मनिष शेटे, सचिव श्रीपाद वठे, राष्ट्रवादी शिक्षक संगठना के  अध्यक्ष ओमप्रकाश संग्रामे, शिक्षक भारती के अध्यक्ष सतीश पवार, शिक्षक सेना के अध्यक्ष व सचिव इनके साथ विभीन्न संगठनों ने समर्थन दिया है. इस आंदोलन में विभीन्न माध्यमिक स्कूलों के शिक्षक, शिक्षकेत्तर कर्मचारी सहभागी हुए थे.