28 गोवंश समेत 18 लाख का माल जब्त – आष्टी पुलिस की कार्रवाई

  • 2 तस्करों के साथ ट्रक मालिक पर मामला दर्ज

गडचिरोली. आष्टी मार्ग से ट्रक द्वारा तेलंगाना राज्य में जानेवाले 28 गोवंश के साथ 18 लाख का मुद्देमाल जब्त करने की कार्रवाई बुधवार 2 दिसंबर को सुबह 10.30 बजे के दौरान आष्टी-आलापल्ली मार्ग पर के एमजेएफ महाविद्यालय के समक्ष आष्टी पुलिस ने की. इस मामले में ट्रकचालक तेलंगाना राज्य के मेहबबुनगर जिले के शहाददनगर तहसील के मोदमपल्ली निवासी  श्रीनू दमसिंग वर्त्यावत (38), क्लिनर शिवा रामसिंग जाटावत (30) को हिरासत में लिया गया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार समिपी  चंद्रपूर जिले के गोंडपिपरी निवासी श्रीकृष्ण गौरक्षण सेवा समिति के अध्यक्ष सुरेश दुर्गे यह चंद्रपूर से अपने कार द्वारा आष्टी मार्ग से आलापल्ली की ओर जा रहे थे. इस दौरान आष्टी के एम. जे. एफ. महाविद्यालय के समक्ष सुबह के दौरान आष्टी से आलापल्ली की ओर जानेवाला अशोक लेलॅंड कंपनी का मालवाहू ट्रक क्र. टी. एस. 12 युसी 9930 यह वाहन ताडपत्री ढंके अवस्था में दिखाई देने से उन्हे संदेह हुआ. उन्होने ट्रक का पिछा करते हुए वाहन को रोका. ट्रक की जांच करने पर 28 मवेशी पाए गए. इसकी जानकारी आष्टी पुलिस को दी गई. जिससे तत्काल पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर जांच प्रारंभ की. इस दौरान एक मवेशी की किंमत 10 हजार के अनुसार 2 लाख 80 हजार रुपये किंमत के मवेशी तथा 15 लाख रुपये किंमत के वाहन ऐसा कुल 17 लाख 80 हजार का माल जब्त किया गया.

उक्त 28 मवेशी ट्रक में भरे गए थे. इस संदर्भ में ट्रक चालक से पुछताच करने पर उसके पास मवेशी यातायात के कोई दस्तावेज नहीं मिले. जिससे सुरेश दुर्गे इनके शिकायत पर आष्टी पुलिस ने ट्रकचालक व क्लिनर को हिरासत में लिया गया है. उन दोनों के साथ ट्रक मालिक पर मामला दर्ज किया गया है. मामले की आगे की जांच आष्टी पुलिस कर रही है. 

लॉकडाऊन के पश्चात गोवंश तस्करी में वृद्धी 

कोरोना प्रादुर्भाव के दौरान लॉकडाऊन जारी किए जाने से मवेशियों के तस्करी में पाबंदीयां आयी थी. मात्र लॉकडाऊन शिथील होते ही तथा राज्यस्तरीय यातायात शुरू होते ही मवेशी तस्कर फिर से सक्रिय हुए दिखाई दे रहे है. तस्कर अपने दलाल के मार्फत जरूरतमंद पशुपालकों को लालच देकर गोवंश खरीदी कर रहे है. उक्त गोवंश की खासकर मध्यप्रदेश, तेलंगाना व छत्तीसगढ राज्य में तस्करी की जाती है. जिले के कोरची, अहेरी तहसील में बिते माह मवेशियों के तस्करी का मामला आगे आया था. फिर अब आष्टी में भी यह मामला उजागर हुआ है. जिससे परराज्य के तस्कर फिर से जिले में सक्रिय होने की बात कहीं जा रही है.