मातृ वंदना योजना अंतर्गत 24585 माताओं को मिला लाभ

  • 13 करोड 22 लाख 61 हजार का अनुदान खाते में जमा

गडचिरोली. केंद्र सरकार ने ग्रामीण व शहरी क्ष्ज्ञेत्र में प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना का लाभ लेने के लिए पात्र हुए 24 हजार 585 (महिलांओं) गर्भवति व स्तनदा माताओं का पंजियन किया गया है. जिसमें से 23 हजार 73 माताओं को लाभ मिला है. उक्त योजना अंतर्गत 13 करोड 22 लाख 61 हजार इतना अनुदान सिधे उनके खातों में जमा किया गया है. 

भारत के अनेक महिलाओं को गर्भावस्था के अंतिम चरण में भी मजदूरी के कार्य करने पडते है. जिससे गर्भवती माता व स्तनदा माता कुपोषित रकर उनके व उसके नवजात शिशु के स्वास्थ्य पर विपरीत परिणाम होकर कभी कभी मृत्यू का खतरा भी रहता है. माता व बालकां का स्वास्थ्य सुधारने के दृष्टि से गर्भवति माता व स्तनदा माता को सकस आहार लेने के लिए प्रोत्साहित कर उनके स्वास्थ्य में सुधारणा हो व जन्म लेनेवाले शिशु का  भी स्वास्थ्य अच्छा हो तथा माता मृत्यू व बालमृत्यूदर में गिरावट निर्माण होकर वह नियंत्रण में रहे, इसके लिए केंद्र सरकार ने प्रधानमंत्री मातृवंदना योजना 1 जनवरी 2017 से चलाई है. गडचिरोली जिला यह अतिदुर्गम होकर ऐसे यहां गर्भवति व स्तनदा माताओं को लाभ मिलने से माताओं में उत्साह का वातावरण होकर मातृत्व स्विकारते समय उनकी खुशियां दुगनी हुई है. जिले में अबत 23 हजार 73 मातांओं को इस योजना का लाभ मिला है. 

तहसील निहाय पंजियन हुए माताएं

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना अंतर्गत जिले के गर्भवति व स्तनदा मातांओं का पंजियन किया गया. जिसमें अहेरी तहसील में 2435, आरमोरी 2351, भामरागढ 575, चामोर्शी 3687, धानोरा 1868, एटापल्ली 1371, गडचिरोली 3589, कोरची 1289, कुरखेडा 2251, मुलचेरा 1427, सिरोंचा 1678, देसाईगंज 2064 ऐसे तहसीलनिहाय माताओं का समावेश है. 

3 चरणों में मदद 

मासिक धर्म थमने के पश्चात 100 दिवस के भितर पंजियन करने पर पहला लाभ 1 हजार रूपये, सरकारी व निजी स्वास्थ्य संस्था में प्रसूति पूर्व करीब 1 बार स्वास्थ्य जांच करने पर 2 हजार रुपये, बच्चे के साडे तीन माह तक का टिकाकरण पूर्ण करने के पश्चात तिसरा लाभ 2 हजार रूपये ऐसे कुल 5 हजार रूपये इतना लाभ दिया जाता है. 

इस योजना परन प्रभावी अमल जिले में किया जा रहा है. सभी तहसील तथा नगर परिषद में योजना द्वारा मदद की जाती है. जो मामले दस्तावेजों के पूर्ति के अभाव में प्रलंबित है, उनका निपटारा करने की सूचना दी है. पंजियन करनेवाली एक भी माता (महिला) लाभ से वंचित न रहे, इस ओर ध्यान दिया जा रहा है. गर्भवति व स्तनदा माता को इस योजना द्वारा लाभ दिलाने की ओर विशेष ध्यान दिया जा रहा है.  – डा.शशिकांत शंभरकर, जिला आरोग्य अधिकारी, गडचिरोली