नक्सलग्रस्त जिले में 72.37 प्रश  मतदान

  • बिते चुनाव की तुलना में दुगनी वृद्धी
  • कोरोना में भी जिले के मतदाताओं का व्यापक प्रतिसाद

गडचिरोली. जिले में मंगलवार को संपन्न हुए नागपूर विभाग पदवीधर मतदाता संघ के द्विवार्षिक चुनाव में 72.37 प्रश मतदान हुआ. बिते पदविधर चुनाव 2014 में 35.86 प्रश मतदान हुआ था. अब इसमें  36.51 प्रश यानी दुगनी वृद्धी हुई है. आदिवासीबहूल, नक्सलग्रसत के रूप में परिचित गडचिरोली जिले में पदवीधर मतदाता संघ हेतु लिए गए मतदान में कोरोना प्रादुर्भाव में भी मतदाताओं ने व्यापक प्रतिसाद देने की बात चुनाव से दिखाई दी. 

जिले के कुल 12448 मतदाताओं में से 9008 मतदाताओं ने प्रत्यक्ष मतदान किया. इसमें पुरूष मतदाता 6751 तो 2257 महिला मतदाताओं का समावेश है. जिले में सुबह 7 से दोपहर 3 बजे तक कुल 21 मतदान केंद्रो पर मतदान की प्रक्रिया संपन्न हुई. 19 प्रत्याशी नागपूर विभाग से चुनाव में खडे है. इसकी मतगणना 3 दिसंबर को नागपूर में होनेवाली है. 

तहसील निहाय मतदान का प्रतिशत 

जिले के  गडचिरोली तहसी लमें 3335 मतदाताओं में से 2303 मतदाताओं ने (69.05 प्रश) मतदान किया, अहेरी 840 मतदाताओं में से 649 मतदाताओं ने (77.26) मतदान किया, आरमोरी 1681 मतदाताओं में से 1246 मतदाताओं ने (74.12) मतदान किया,  भामरागढ 135 मतदाताओं में से 108 मतदाताओं ने (80) मतदान किया,  चामोर्शी 1718 मतदाताओं में से 1168 मतदाताओं ने (67.98) मतदान किया, धानोरा 423 मतदाताओं में से 323 मतदाताओं ने (76.36) मतदान किया,  एटापल्ली 392 मतदाताओं में से 250 मतदाताओं ने (63.78) मतदान किया, कोरची 453 मतदाताओं में से 335 मतदाताओं ने (73.95) मतदान किया, कुरखेडा 1051 मतदाताओं में से 880 मतदाताओं ने (83.72) मतदान किया. मुलचेरा 441 मतदाताओं में से 358 मतदाताओं ने (81.18) मतदान किया,  सिरोंचा 426 मतदाताओं में से 288 मतदाताओं ने (67.61) मतदान किया व देसाईगंज 1409 मतदाताओं में से 1100 मतदाताओं ने (78.06) प्रश मतदान किया. इसमें संख्यात्मक मतदान में गडचिरोली तहसील में सर्वधिक 2303 मतदाताओं का सहभाग रहा. 

मतदाता प्रशंसा के पात्र-जिलाधिकारी

जिले के पदविधर मतदाताओं ने पंजियन 2014 के जितना ही करीब करीब किया है. मात्र इस बार मतदान का प्रतिशत में काफी सुधार हुआ है. जिले के प्रशासन ने उत्कृष्ट रूप से मतदान की प्रक्रिया संपन्न की. मतदाताओं ने कोरोना का संक्रमण के चलते सतर्कता बरतते हुए मतदान को प्रतिसाद दिया. जिससे मतदाता निश्चित ही प्रशंसा के पात्र है, ऐसी प्रतिक्रिया जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने दी है. 

जिला प्रशासन का सफल नियोजन 

कोरोना प्रादुर्भाव के कालावधि में नागपूर पदवीधर मतदाता संघ की यह पहला चुनाव होने से जिला प्रशासन के समक्ष बडा आह्वान था. मात्र नियोजनबद्ध रूप से उक्त चुनाव सफलतापूर्वक संपन्न की. कोरोना के चलते सतर्कता के तौर पर जिला प्रशासन ने प्रत्येक मतदान केंद्र पर सॅनिटायझर की व्यवस्था की थी. इसके साथ ही मतदाताओं के थर्मल टेस्ट, ऑक्सिमीटर द्वारा जांच कर अंदर भेजे जा रहे थे. इस दौरान मतदाताओं को मास्क बंधनकारक किया गया था. जिनके पास मास्क नहीं थे, उनहे मास्क वितरीत किया गया. सोशल डिस्टन्सींग के दृष्टि से विशेष दूरी पर राऊंड तैयार कर मतदाताओं को खडा किया. इस दौरान पुलिस का तगडा बंदोबस्त रखा गया था. जिला प्रशासन ने बरते गए विशेष सतर्कता के चलते मतदाताओं ने भी विशेष प्रशंसा की.