कृषि अधिकारियों ने किया गांव-गांव का दौरा

  • उन्नत तकनीक का प्रयोग के लिए कर रहे प्रेरित

सिरोंचा. कृषि प्रधान तहसील सिरोंचा में इन दिनों स्थानीय कृषि अधिकारी गांव-गांव पहुंचकर गांवो में चौपाल लगाकर कर जैविक खेती की ओर प्रेरित करते दिख रहे हैं. इसके लिए सरकारी मदद, कृषि योजनाओं, उन्नत तकनीक, जैविक खाद की महत्व की जानकारियां चौपाल में किसानों के समक्ष प्रस्तुत कर रहे हैं. किसानों को समयानुकूल उपज के लिए प्रेरित करते हुए सरकारी योजनाओं की विस्तृत जानकारियां साझा कर रहे हैं.

काम लागत में अधिक उत्पादन
स्थानीय कृषि अधिकारी गांव-गांव पहुंचकर ग्रामीणों को कृषि कार्य हेतु भूमि संरक्षण, उपलब्ध प्राकृतिक पेड़ पौधों की पत्तियों से जैविक खाद बनाने का विधि, उसके लिए बाकायदा गांव में कृषकों को इकट्ठा कर चौपाल के माध्यम से उन्हें पेड़ पौधों के पत्तियों से जैविक खाद बनाने का विधि की जानकारी, एवं रासायनिक खादों का मानव समाज पर पड़ने वाला दुष्प्रभाव की जानकारी देते हुए उन्हें जीविका खेती की ओर प्रेरित कर रहे हैं. इसके साथ ही तालुका कृषि अधिकारी सुनील जादव, तालुका कृषि अधिकारी जगदीश दोन्दे के नेतृत्व में गांव-गांव पहुंचकर चौपाल के माध्यम से ग्रामीण कृषकों को घरेलू बीज का प्रयोग करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.

इसमें बीज प्रक्रिया के तहत जीवाणु संवर्धन, काम लागत में अधिक उत्पादन के तरीकों की जानकारियां, गांवों में आसानी से उपलब्ध होने वाला नीम के पत्तियों से खाद बनाने की वैज्ञानिक तरिकों की जानकारियां एवं उसके प्रयोग विधि, पारंपरिक खेती में उन्नत तकनीक का प्रयोग की विधि की जानकारियां एवं उससे बढ़ावा देने के दिशा में जरूरी दिशा निर्देश दे रहे हैं. इस नई प्रयोग का कृषि विभाग को अच्छे परिणाम भी मिल रहे है. स्थानीय कृषि विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक अधिकारी विगत सप्ताह भर में तहसील के रोमपल्ली, अंकिसा, गुम्मालकोंडा, कंबालपेटा आदि गांवो में चौपाल लगाकर ग्रामीण कृषकों को जागरूक एवं प्रेरित कर चुके हैं. पहले ग्रामीण कृषकों को स्वयं को नगर में पहुंचकर खाद की खरीदी करनी होती थी. मगर कृषि विभाग के पहल से अब गांव से एक किसान सभी की जरूरत के मुताबिक खाद की खरीदी कर कृषि विभाग के सहयोग से कम कीमत पर खाद की खरीदी कर आर्थिक बचत भी कर सकेंगे.