कोठारे परिवार का तहसील कार्यालय समक्ष बेमियादी अनशन

  • खेत फसलों का नुकसान मुआवजा देने की मांग

चामोर्शी. खेत फसलों का नुकसान मुआवजा व खेत फसलों के लिए लिया हुआ बैंक कर्ज माफ हो, इस मांग के लिए चामोर्शी तहसील के बांधोना (अंकोला) के किसान चंदू कुंडलीक कोठारे व पत्नी गंगुबाई चंदु कोठारे ने परिवार समेत सोमवार 14 दिसंबर से तहसील कार्यालय समक्ष बेमियादी अनशन शुरू किया है.

तलाठी साझा गिलगाव में सर्व्हे नं. 97  व 98/1 को चंदू कोठारे के खुद के मालकी की खेतजमीन है. उक्त खेत के फसल उत्पादन के लिए उन्होंने जिला मध्यवर्ती सेवा सहकारी बैंक शाखा कुनघाडा से 53 हजार रूपयों का फसल कर्ज लिया. 29 अक्टूंबर को आए तुफानी बारिश से उनके 4 एकड खेत के धान का काफी नुकसान हुआ. नुकसान होने से जीवन कैसे जीए व फसलों के लिए हुए 53 हजार रूपयों का कर्ज कैसे चुकाए ऐसा प्रश्न उनके सामने खडा है.

तुफानी बारिश से हुए नुकसान की जानकारी तहसीलदार से मिलकर 30 अक्टूंबर को ज्ञापन से दी. जिसके अनुसार गिलगाव के तलाठी मडावी व नवेगाव के तलाठी कोडापे तथा मंडल कृषी अधिकारी पाटील, भैसारे ने प्रत्यक्ष मोका जांच कर मुआवजा मिलने का आश्वासन दिया. किंतु अभी तक सरकार की ओर से तथा फसल बिमा विभाग, कृषी विभाग की ओर से नुकसान मुआवजा नहीं मिला.

जिससे परिवार पर भुखमरी व कर्ज से जान गावानी की नौबत आन पडी है. नुकसान मुआवजा व खेत फसलों के लिए लिया हुआ 53 हजार रूपयों का बैंक कर्ज माफ करे, ऐसी मांग कर चंदू कोठारे व उनके परिवार ने सोमवार 14 दिसंबर से तहसील कार्यालय समक्ष बेमियादी अनशन शुरू किया है. मांगों का ज्ञापन किसान चंदू कोठारे ने तहसीलदार को पेश किया है.