लाहेरी पुलिस थाने का प्रयास, आधार केंद्र का लाभ ले रहे आदिवासी

भामरागड़. तहसील के लाहेरी पुलिस थाने में पुलिस के प्रयासों से आधार केंद्र शुरू किया गया है. इस आधार केंद्र के कारण परिसर के आदिवासी बांधवों को आधार कार्ड निकालने के लिए भामरागढ में जाने की नौबत टल गई है. इस आधार केंद्र से यहां के आदिवासियों को आधार मिला है.

गांवों को दी भेंट

एक समय में पुलिस यानी केवल कानून व सुव्यवस्था बनाएं रखने वाला कर्मचारी यही कुछ माना जाता था. मगर उप पुलिस थाना लाहेरी की ओर से सामाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए आदिवासियों की मदद भी की जा रही है. भौगोलिक परिस्थितियों के चलते भी यह क्षेत्र विकास से वंचित है. जिससे यहां का नागरिक आज भी विभिन्न सरकारी योजनाओं की जानकारी के अभाव में वंचित है. इसे विकल्प के तौर पर उप पुलिस स्टेशन लाहेरी की ओर से विभिन्न गांवों में भेंट देकर तथा पुलिस थानों में बैठक आयोजित कर सरकारी योजनाओं की जानकारी दी जाती है. पात्र लाभार्थी खोजकर विहित नमूने में आवेदन भरकर संबंधित विभाग की ओर भेजा जाता है. 

जरूरतमंदों को सामग्री वितरित

इस वर्ष की दीपावली पर आदिवासी बांधवों के साथ परिसर के 15 से 20 गांवों को पुलिस थाने में बुलाकर कपड़े, शालेय साहित्य व मिठाई वितरित करते हुए उनके साथ पर्व मनाया गया इससे बांधवों के चेहरे पर खुशियां बिखेर गईं. कार्यक्रम की सफलता के लिए पुलिस हवलदार तुकाराम हिचामी, अरुण टेकाम, शालू नामेवार, पुलिस नाइक वर्षा डांगे, फिरोज गाठले, पोशी अरुणा आत्राम, संदीप आत्राम, डेविड चौधरी, प्रेमिला तुलावी, शोभा गोदारी, सोनाली नैताम, रत्नमाला जुमनाके, सुजाता जुमनाके, योगिता हिचामी, कल्पना भिसे, वैशाली चव्हाण, मोहित मानकर, चिरंजीव दुर्गे, नितिन जुवारे, नितिन कुमरे, सौरभ बालबुद्धे, ईश्वरलाल नैताम, अमित कुलेटी, अभिषेक पिपरे, पुरुषोत्तम कुमरे आदि ने प्रयास किया. 

आधार कैम्प से मिलते हैं कई लाभ

‘मेरा पुलिस, मेरा आधार’ इस संकल्पना से सामाजिक दायित्व का निर्वहन करते हुए आदिवासी बांधवों को कानूनन पहचान दिलाने के लिए पुलिस अधीक्षक अंकित गोयल, अपर पुलिस अधिक्षक सोमय मुंडे, उप विभागीय पुलिस अधिकारी कुणाल सोनावाने के मार्गदर्शन में तहसीलदार अनमोल कांबले के सहयोग से प्रभारी अधिकारी अविनाश नलेगांवकर ने उपपुलिस थाना लाहेरी में आधार कैम्प का आयोजन किया. इसमें आधार पंजीयन, दुरूस्ती की जा रही है.