‘भारत बंद’ मोर्चा में बैलगाडी समेत किसान होंगे शामिल

गडचिरोली. केंद्र सरकार के किसान और कामगार विरोधी कानून को विरोध करने का निर्धार देशभर के किसान और कामगार संगठन ने लिया है. इसी ही हिस्से के रूप में आनेवाले गुरूवार 26 नवंबर को भारत बंद  में जिले के किसान, कामगार और सरकारी-गैरसरकारी सेवा के कर्मचारी संगठन समेत बचत गुट की महिला तथा किसान भी बैलगाडी समेत शामिल होनेवाले है.

किसान कामगार पार्टी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी समर्थीत आंगणवाडी सेविका, आशा वर्कर तथा बचत गुट की महिला भी इस मोर्चा में शामिल होनेवाली है. भारत बंद के पार्श्वभूमी पर जिले में जिलाधिकारी कार्यालय पर दोपहर 12 बजे गांधी चौक से किसान, खेतमजदूर, कामगार और सरकारी-गैरसरकारी कर्मचारियों के अधिकार के लिए  इस मोर्चा का आयोजन किसान कामगार पार्टी और वामपंथी वैचारिक संगठना करनेवाले है. 

गोसेखुर्द बांध के दरवाजे खोलकर वैनगंगा नदी में आए बाए से हुआ नुकसान अभी तक सरकार की ओर से मुआवजा नहीं मिला. कई नुकसानग्रस्त मदद से वंचित रहने की संभावना है. कोरोना के चलते भयावह स्थिती से बाहर निकलने के लिए महिला बचत गुट का कर्ज माफ कर वित्तीय मदद दी जाए, लॉकडाऊन कालावधि का बिजली बील माफ करे, पंजीयनकृत निर्माण कामगारों को नुकसान का मुआवजा दें, सरकारी-गैरसरकारी सेवा के ठेका कर्मीओं को करीबन वेतन और 2005 बाद के कर्मचारियों को पुरानी पेंशन योजना लागू की जाए, ऐसी मांग इस मोर्चा के माध्यम से की जानेवाली है. इस मोर्चा में अधिक संख्या में वामपंथी पार्टीओं के कार्यकर्ते और किसान, खेतमजदूर, कामगार, पंजीयनकृत निर्माण कामगार, बच गुट की महिला, ठेका कर्मचारी शामिल होने का आह्वान शेकाप के राज्य चिटणीस मंडल सदस्य तथा जिला चिटणीस रामदास जराते ने किया है.