फायलेरिया को रोकने गोलियों का सेवन जरूरी, घर-घर पहुंचकर स्वास्थ्य कर्मी खिलाऐंगे गोलियां , 1 से 15 जुलाई तक चलाई जाएगी मुहिम

    गड़चिरोली. क्यूलेक्स मच्छर (मादी) के काटने से फायलेरिया का संक्रमण होता है. फायलेरिया के कारण व्यक्ति को दिव्यांगता आती है. इसलिए फायलेरिया पर समय रहते नियंत्रण पाना आवश्यक है. फायलेरिया पर नियंत्रण पाने के लिए जिले 1 जुलाई से 15 जुलाई तक मुहिम चलाई जा रही है. जिसके तहत स्वास्थ्य विभाग के कर्मी घर घर पहुंचकर आयवरमेक्टीन, डी.ई.सी. व अल्बेंडाजोल इन 3 तरह के गोलियां खिलाएंगे. फायलेरिया को रोकने के लिए गोलियों का सेवन करना आवश्यक है. ऐसी जानकारी जिला मलेरिया अधिकारी डा. कुणाल मोडक ने दी.   

     स्वास्थ्य विभाग तथा जिला फायलेरिया कार्यालय गड़चिरोली की ओर से 1 से 15 जुलाई के दौरान जिले में फायलेरिया दूरीकरण मुहिम चलाई जानेवाली है. जिसके तहत आयोजित पत्रपरिषद में उन्होंने जानकारी दी. पत्रपरिषद में डा. मोडक ने बताया कि जिले में फायलेरिया को रोकने के लिए 2 वर्ष से कम उम्र के बच्चे, गर्भवती माता व गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों को छोड़ सभी के लिए संबंधित व्यक्ति के कद के अनुसार  अधिक उम्र के बच्चों से लेकर सभी को आयव्हरमेक्टीन, डी.ई.सी. व अल्बेंडाजोल इन 3 तरह की गोलियां खिलाई जानेवाली है. इन गोलियों के सेवन से शरीर में प्रवेश किए फायलेरिया के विषाणु मरने की प्रक्रिया शुरू होती है.

    इस दौरान किसी व्यक्ति को बुखार, बदनदर्द, उल्टी होना आदि कुछ समस्याएं दिखाई दे सकते हैं. घबराने की कोई जरूरत नहीं है. जिले के नागरिक स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा दिए गए गोलियों का सेवन कर फायलेरिया को दूर करने सहयोग करे, ऐसी अपील डा. मोडक ने की है. पत्रपरिषद में धानोरा के फायलेरिया अधिकारी पी. वी. लवाडे, स्वास्थ्य सहाय्यक कालिदास राऊत उपस्थित थे. 

    10,52,539 पात्र नागरिक 

    जिले की कुल 1690 गांवों में फायलेरिया दूरीकरण मुहिम चलाई जानेवाली है. जिले कुल 11 लाख 31 हजार 762 जनसंख्या में से 10 लाख 52 हजार 539 पात्र नागरिकों को 3 गोलियों का संयुक्तीक आई.डी.ए. डोज दिया जानेवाला है. जिले के शहरी क्षेत्र से लेकर ग्रामीण अंचल तक सभी जगह यह मुहिम चलाई जानेवाली है. पात्र नागरिकों को गोलियां खिलाने के लिए मांग के अनुसार जिले में 28 लाख 29 हजार 405 गोलियों की आपूर्ति की गई है. यह गोलियां संबंधित केंद्र पर पहुंचायी गई है. स्वास्थ्य कर्मियों द्वारा 1 जुलाई ये गोलियां खिलाने की मुहिम प्रारंभ की जाएगी. 

    4527 कर्मी नियुक्त 

    जिले में फायलेरिया को रोकने के लिए जिला फायलेरिया कार्यालय अंतर्गत जिले में आयव्हरमेक्टीन, डी.ई.सी. व अल्बेंडाजोल इन गोलियां खिलाई जानेवाली है. इस मुहिम को सफल बनाने के लिए 4527 कर्मचारियों की नियुक्ती की गई है. जिले के गांव गांव में पहुंचकर यह स्वास्थ्य कर्मी प्रत्येक व्यक्ति के घर जाकर गोलियां खिलाएंगे. इस कार्य में 905 सुपरवाइजर का स्टॉफ भी सहयोग करेगा. 

    महिलाओं में सर्वाधिक फायलेरिया का प्रमाण

    बीते वर्ष 2020 में 16 से 31 अगस्त के दौरान राष्ट्रीय फायलेरिया नियंत्रण कार्यक्रम के अंतर्गत सर्वे किया गया था. इस दौरान जिले में 5796 फायलेरिया संक्रमित मरीज पाए गए थे. जिसमें अंडवृद्धि के 1930 मरीज तथा हाथीरोग प्रवर्ग के 3866 मरीज मिले थे. बता दें कि हाथीरोग प्रवर्ग के मरीजों में सर्वाधिक मरीज महिलाएं थीं. जिले में हाथीरोग प्रवर्ग के 2919 महिलाएं हाथीरोग संक्रमित थीं.