दुर्गोत्सव पर कोरोना का साया, सादगी से मनाया जाएगा उत्सव

आरमोरी. सरकार ने कोरोना संक्रमण  के कारण गणेशोत्सव की भांति दुर्गा उत्सव भी कुछ नियम और शर्तो के साथ सादगी से मनाने के आदेश दिये है। जिससे समुचे विदर्भ में आरमोरी का नवरात्र उत्सव पर कोरोना का साया नजर आ रहा है। शहर के दुर्गामाता संचालक मंडल भी सरकार द्वारा निर्गमित किए गए नियमों का पालन कर व्यापक सदगी से नवरात्र उत्सव की तैयारी शुरु की है।

आरमोरी का दुर्गा उत्सव राज्य के साथ ही दूसरे राज्य में प्रसिद्ध है। यहां नवदुर्गा उत्सव मंडळ बसस्टैन्ड, सार्वजनिक दुर्गा माता देवस्थान तिलक चौक की ओर से हर वर्ष विभिन्न राज्यों के हू बहू धार्मिक झाकियां तैयार की जाती है। गरबा, डांडिया के कारण नवरात्र उत्सव के दौरान शहर में श्रध्दालुओं की भीड़ उमड पडती है। मात्र इस वर्ष कोविड-19 के कारण इस उत्सव पर संकट के बादल है। हर वर्ष नवरात्र उत्सव के 2 माह पूर्व दुर्गा उत्सव के जगह झाकियों के स्टेज तैयार करने को शुरूआत की जाती थी। किंतु इस वर्ष यह सब नहीं दिखाई दे रहा है।

दुर्गा उत्सव ही नहीं बल्की, गणेशोत्सव, पोला आदि त्यौहार भी सरकार ने नियमों का पालन कर मनाने के निर्देश दिए थे। कोरोना पर मात कर उद्योगधंदे सुव्यवस्थित सुचारू करने के दृष्टि से सरकारी स्तर से संबंधित विभाग ने ननिर्गमित किए गए नियमों का पालन कर ही दुर्गा उत्सव सादगी से मनाया जानेवाले है। इसके लिए समस्त गांव, शहर, जिला, पडोसी जिले के नागरिक, श्रद्धालू मंडल को सहयोग कर नियमों का पालन करे, व आनेवाले नवरात्र उत्सव में मास्क, सैनेटाईजर, सोशल डिस्टन्सिंग पालन की अपील दुर्गा मंडल पदाधिकारियों ने की है।

कोरोना के कारण जनजीवन प्रभावित

समूचे विश्व को दहला देनेवाले कोरोना संक्रमण की श्रृंखला अब भी आवश्यक मात्रा में नहीं टूटी  है। जिसेस अनेक छोटे, बडे उद्योगधंदे बंद होने की कगार पर है। ऐसे में इस दौरान प्राकृतिक आपदा बाढ, तूफानी बारिश से किसानों का व्यापक नुकसान हुआ। वहीं अगस्त माह में आए बाढ से अनेक मकानों को क्षति हुई। इन सभी परिस्थिती के कारण जनजिवन प्रभावित हुआ है।