अब जिले में होगी कोरोना RT-PCR जांच, प्रयोगशाला का निर्माण पूर्ण

गड़चिरोली. जिले में कोरोना के बढ़ते प्रादुर्भाव देखकर नागपुर के ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल सायंस (एम्स) की ओर से स्थानीय जिला अस्पताल में कोरोना के आरटी-पीसीआर जांच को मंजूरी प्रदान करते ही मात्र 30 दिनों के भीतर जिले की आरटी-पीसीआर प्रयोगशाला पूर्ण की गई है.

आगामी 8 दिनों में यहां कोरोना जांच शुरू होने से अब तत्काल रिपोर्ट मिलने में मदद होने वाली है. कलेक्टर ने लिया जायजा जिले में पहले आरटी-पीसीआर प्रयोगशाला को जिलाधिकारी दीपक सिंगला व मुख्य कार्यकारी अधिकारी कुमार आशीर्वाद ने प्रत्यक्ष भेंट देकर तैयारी के संदर्भ में निरीक्षण किया. विदर्भ के सबसे प्रशस्त आरटी-पीसीआर प्रयोगशाला के रूप में गड़चिरोली जिले की पहचान होने वाली है. इस प्रयोगशाला के लिए आवश्यक मशीनें स्वास्थ्य विभाग के मार्गदर्शक सूचनानुसार लगाई गई है.

प्रत्येक प्रक्रिया के लिए सुसज्ज कक्ष व आवश्यक जगह की व्यवस्था की गई है. लेकिन 30 दिनों के भीतर दिनरात सभी कार्य पूर्ण कर प्रयोगशाला निर्माण की गई है. सभी कार्यों की तकनीकी जांच कर आवश्यक मनुष्यबल नियुक्त किया गया है. एम्स ने दी अनुमति जिले में प्रयोग शाला के निर्माण के बाद व अन्य आवश्यक व्यवस्था संदर्भ में जांचने के बाद ही एम्स की ओर से कोरोना जांच तथा अन्य जांच शुरू करने की अनुमति दी गई है.

इस समय जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने हुए कार्यों को लेकर समाधान व्यक्त किया. वहीं निर्माण विभाग, जिला असपताल यहां के प्रयोगशाला निर्माण के लिए कार्य करने वाले अधिकारी व कर्मचारियों की प्रशंसा की है. जिलाधिकारी के निरीक्षण के दौरान जिला शल्य चिकित्सक डा. अनिल रुडे ने उपस्थितों को प्रयोगशाला के संदर्भ में जानकारी दी. इस समय अति.जिला शल्य चिकित्सक डा. सतीशकुमार सोलंखे, डा. बागराज धुर्वे, महेश देशमुख, साखरवडे, कार्यकारी अभियंता निर्माण उपस्थित थे.

अत्याधुनिक प्रयोगशाला :

सिंगला जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने कहा कि जिले में निर्माण की गई आरटी-पीसीआर प्रयोगशाला यह अत्याधुनिक व प्रशस्त स्वरूप में है. अब जिले में ही कोरोना जांच का निदान होगा. इससे पूर्व नागपुर से रिपोर्ट आने में 2 से 3 दिनों का समय लगता था. अब आरटी-पीसीआर जांच जिले में शुरू होने के बाद मरीजों की उपचार प्रक्रिया सरल होगी. एक समय में 118 जांच करने की क्षमता : आशीर्वाद जिप के मुख्य कार्यपालन अधिकारी कुमार आशीर्वाद ने बताया कि जिले के विभिन्न बीमारियों के संदर्भ में जांच इस लैब में होंगे. जिले के स्वास्थ्य क्षेत्र की यह प्रयोगशाला अच्छी उपलब्घ है. कोरोना महामारी में इस प्रयोगशाला के कारण जांच को गति मिलेगी. एक समय में 118 नमूने की जांच करने की क्षमता अत्याधुनिक प्रयोग शाला में रहेगी.