फसल कर्ज के आवेदनों का होगा संनियंत्रण, जिलाधिकारी सिंगला ने दी जानकारी

गड़चिरोली. बैंकों द्वारा बिना कारण किसानों को फसलकर्ज देने से इंकार करना, किसानों को विभिन्न दस्तावेजों की मांग कर वापस लौटाने के मामले बढ़ गए हैं. इस पर रोक उपाययोजना के तहत अब जिलाधिकारी कार्यालय ने नया पोर्टल तैयार किया है. इस माध्यम से किसानों को हरेक फसलकर्ज मांग आवेदनों पर संनियंत्रण किया जाने वाला है. यह जानकारी जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने दी है. फसल कर्ज मांग पोर्टल का उद्घाटन जिलाधिकारी दीपक सिंगला के हाथों किया गया. इस दौरान जिला उपनिबंधक, अग्रणी बैंक प्रबंधक तथा सभी बैंकों के अधिकारी उपस्थित थे. 

सभी आवेदनों पर रहेगा ध्यान
इस पोर्टल पर सरल पद्धति से सभी किसानों को कृषि मित्र, आपले सरकार सेवा केंद्र, बैंक सखी, कृषि सहायक इनमें से किसी एक से आवेदन करना है. इस प्रक्रिया के कारण अब बैंक अकारण फसल कर्ज से इंकार नहीं कर सकता है. हरेक फसल कर्ज आवेदनों पर जिलाधिकारी कार्यालय का ध्यान रहेगा. किसान इसी पोर्टल पर आवेदन करें, यह आह्वान जिलाधिकारी सिंगला ने किया. जिले के व्यवसायिक बैंक हमेशा कर्ज देने में टालमटोल करते हैं. वहीं उन्हें दिए गए फसल कर्ज का उद्देश्य भी पूर्ण नहीं होने की शिकायतें प्राप्त हो रही थी. जिसके चलते जरूरतमंद किसानों को आवश्यक समय पर तथा तत्काल फसल कर्ज मंजूर हो इसके लिए यह पोर्टल उपयोगी साबित होने वाला है.

बैंकों को स्वयं आगे आने की आवश्यकता 
किसानों को खेती व्यवसाय के वृद्धि तथा उत्पन्न का साधन बढ़ाने के लिए बैंकों को स्वयं आगे आना आवश्यक है. बैंक किसानों को कर्ज आपूर्ति कर जिले में वित्तीय गति देने के लिए प्रयास करें, यह सूचना जिलाधिकारी ने हाल ही में हुए जिलास्तरीय डीएलसीसी बैठक में सभी बैंकों को दिए थे. इस संदर्भ में अब सभी बैंकों के कर्ज वितरण का प्रत्येक शुक्रवार को जायजा लिया जाने वाला है. वहीं दिया गया उद्देश्य पूर्ण नहीं करने पर संबंधित बैंकों पर कार्रवाई करने का आदेश भी दिया जाने वाला है. 

आज से कर पाऐंगे आवेदन 
जिले के सभी किसान इस पोर्टल के द्वारा आज से आवेदन करना शुरू करें. किसानों को इस दौरान कुछ दिक्कतें निर्माण होने पर कृषि मित्र, आपले सरकार सेवा केंद्र, बैंक सखी, कृषि सहायक इनमें से एक से मदद ले, यह प्रक्रिया किसानों के लिए कुछ दिक्कतें हैं. इसलिए अन्य लोगों की मदद लेकर वह पूर्ण करें, अब किसी के भी कर्ज  बिना कारण नामंजूर नहीं किया जाएंगे. यह बात भी जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने कही.