डेकोरेशन संचालकों की भुकमरी रोके- झाडीपट्टी नाट्य कला सांस्कृतिक बहुउद्देशिय मंडल की मांग

देसाईगंज. कोरोना वायरस के संक्रमण से समुचे पुरे देशभर में लॉकडाउन किया गया होकर मंडप डेकोरेशन व्यवसाय पर संकटों का पहाड गिरा है. जिससे उक्त व्यवसाय पर निर्भर रहनेवाले संचालक समेत मजदुरों पर आन पडी भुकमरी रोके तथा सरकार स्तर से वित्तीय  मदद कि जाए, ऐसी मांग देसाईगंज झाडीपट्टी नाट्य कला सांस्कृतिक बहुउद्देशिय मंडल ने उपविभागीय अधिकारी द्वारा राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को भेजे ज्ञापन द्वारा की है.

ज्ञापन में कहा है की, शुरू वित्तीय वर्ष में कोरोना वायरस के पार्श्वभुमी पर 22 मार्च से लॉकडाउन की घोषणा की गई. इस दौरान जमावबंदी तथा संचारबंदी लागु की गई होने से कार्यक्रम पर बंदी लगाई गई. जिससे डेकोरेशन संचालक साथ ही उक्त व्यवसाय पर निर्भर रहनेवाले मजदुरों पर भुके रहने की नौबत आन पडी है. डेकोरेशन यह व्यवसाय पुर्णत: लोगों पर निर्भर है. कार्यक्रम पर बंदी होने से रोजगार उपलब्ध होने से उक्त व्यवसाय पर निर्भर रहनेवाले संचालक समेत मजदुरों को वित्तीय संकटो का सामना करना पड रहा है. लाखो रूपयों की लागत कर साथ ही बैंक से कर्ज लेकर व्यवसाय प्रस्थापित कर तथा संबंधित व्यवसाय का बिमा होकर भी प्राकृतिक आपदा, आयोजित कार्यक्रम के उपलक्ष्य में साहित्यों की यातायात करते समय होने वाली दुर्घटना में जिवितहानी का सामना करना पड रहा है. किंतु सरकार द्वारा इस ओर अनदेखी की होने से डेकोरेशन व्यवसाय संदर्भ में समस्या अब तक कायम है.

जमावंदी तथा संचारबंदी की घोषणा की जाने से होनेवाले कार्यक्रमों पर पाबंदी लगाई गई है. जिससे डेकोरेशन का व्यवसाय पुर्णत: ठप्प पडा है. बैंक का कर्ज, तथा परिवार की जिम्मेदारी संभालते समय वित्तीय संकटों का सामना करना पड रहा है. दिन ब दिन होनेवाली समस्या बढ रही है. जिससे डेकोरेशन पर निर्भर होनेवाले मजदुरों को भुकमरी से बाहर निकालने के लिए वित्तीय मदद देने की मांग सौंपे ज्ञापन द्वारा की हे. ज्ञापन सौंपते समय मंडल अध्यक्ष धनंजय सहारे, उपाध्यक्ष शामराव खुणे, सचिव नंदू नाकाडे, सुरज वालके तथा डेकोरेशन संचालक उपस्थित थे.