लॉकडाऊन की चेतावनी के बावजूद भी ना मास्क, ना सोशल डिस्टन्सिंग

    • नागरिकों द्वारा कोरोना नियामों का उल्लंघन
    •  जिला प्रशासन सतर्क

    गड़चिरोली. जिले में विगत कुछ दिनों से कोरोना बाधितों की संख्या में वृद्धी होती जा रही है. जिसके अनुसार जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने हाल ही में जिला प्रशासन की बैठक लेकर कोरोना नियमों का पालन न करने पर सम्पूर्ण जिले में लाकडाऊन करने की चेतावनी दी थी. इस चेतावनी के बावजूद भी नागरिकों को कोई फरक नहीं पड़ा. शहर में कोरोना नियामों का खुलेआम उल्लंघन हो रहा होकर ‘ना मास्क, ना सोशल डिस्टन्सिंग’ ऐसी स्थिती देखने मिल रही है. जिससे कोरोना और बढ़ने की संभावना है.

    पिछले वर्ष मार्च माह से भारत समेत महाराष्ट्र में कोरोना वायरस का शिरकाव हुआ था. जिससे 24 मार्च 2020 से सम्पूर्ण भारत में संचारबंदी व लॉकडाऊन घोषित किया गया था. सम्पूर्ण व्यापार, यातायात, स्कुल, कालेज बंद किए गए थे. जिससे जनजीवन पूरी तरह प्रभावित हुआ था. बाहरी राज्य में मजदुरी के लिए गए मजदुरों को वापिस लौटते समय काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा था. कोरोना का संक्रमण धीरे धीरे कम होते ही सितंबर माह में मिशन बिगीन अंतर्गत चरण चरण में कुछ बातों पर छुट दी गई.

    उसके बाद दिसंबर, जनवरी माह में सभी व्यापार, यातायात, स्कुल, कॉलेज शुरू किए गए. जिससे कोरोना का संकट चला गया ऐसे विचार में नागरिक बिनधास्त घुमने लगे. मास्क, सोशल डिस्टन्सिंग को नागरिक भुलने लगे. मात्र अब फिर से कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा होकर राज्य में कोरोना और रौद्र रूप धारण कर रहा है. नागपूर, अमरावती, वर्धा समेत अन्य शहर में कोरोना बाधितों की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है. जिससे वर्धा व अमरावती जिले में लॉकडाऊन घोषित किया गया है.

    गडचिरोली जिले में भी विगत कुछ दिनों से कोरोना बाधितों की संख्या में वृद्धी होती जा रही है. जिससे जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों की बैठक लेकर नागरिकों को कोरोना नियम व प्रशासन के निर्देशों का पालन करने का आह्वान किया था. नियमों का पालन न करने पर जिले में फिर से लॉकडाऊन करने की चेतावनी दी थी.

    इस चेतावनी के बावजूद भी जिले के नागरिकों को कुछ खासा फरक नहीं पड़ा. अनेक नागरिक घर से बाहर निकलते समय कोरोना नियमों की ओर अनदेखी कर बिनधास्त घुम रहे है. बाजारपेठ में भी बड़े पैमाने में भीड़ हो रही है. ‘ना मास्क, ना सोशल डिस्टन्सिंग’ ऐसी स्थिती देखने मिल रही है. जिससे जिले में फिर से कोरोना का प्रादुर्भाव बढ़ने की संभावना निर्माण हुई है. 

    बस स्टैंड में भीड, फिजीकल डिस्टन्सिंग की उड़ी धज्जिया

    जिले में कोरोना का प्रादुर्भाव बढ़ता जाने से प्रशासन की ओर से निषेधाज्ञा आदेश दिया गया है. ऐसा होने के बावजूद भी शहर के बस स्टैंड पर कोरोना का प्रादुर्भाव न हो इसलिए सरकार ने लगाए हुए नियमों का यात्रियों द्वारा खुलेआम उल्लंघन होता दिखाई दे रहा है. आधे से अधिक यात्री बिनामास्क बस में बैठकर सफर कर रहे है. बस में चढने के लिए होनेवाली यात्रियों की भीड़ कोरोना बढ़ने में आमंत्रित कर रही है. सरकार ने फिजीकल डिस्टन्सिंग, बार बार हाथ स्वच्छ धोना, मास्क लगाना अनिवार्य किया है. मात्र जिले में कोरोना नियमों का पालन नहीं होता नजर आ रहा है. कोरोना नियमों का पालन करना अनिवार्य है. मात्र कुछ बेशिस्त नागरिक व यात्री इसकी ओर अनदेखी कर रहे है. हर रोज बढ़नेवाले कोरोना बाधितों में गडचिरोली शहर के मरीजों का समावेश होने से ग्रामीण क्षेत्र से शहर में आनेवाले नागरिकों ने कोरोना नियमों का पालन करना आवश्यक है. 

    उल्लंघन करनेवालों पर कार्रवाई करने की आवश्यकता 

    कोरोना के नियमों का उल्लंघन करनेवाले नागरिकों पर पुलिस कार्रवाई करने की आवश्यकता है. जिले में अनेक लोग मास्क न लगाकर घर से बाहर निकलने का दिखाई दे रहा है. कोरोना के मरीज बढ़ते जाने के बावजूद भी शारिरीक दूरी रखी नहीं जा रही है. शुरूआत में प्रशासन की ओर से मास्क का उपयोग न करनेवाले नागरिकों पर कार्रवाई की जा रही थी. जिससे हर लोग मास्क लगाकर घुमते नजर आते थे. मात्र उसके बाद प्रशासन की ओर से कार्रवाई ठंडेबस्ते में होने से अब कोई भी मास्क का उपयोग न करते  नजर आता है. जिससे फिर से प्रशासना मास्क न लगानेवालों पर कार्रवाई की मुहीम चलाए, ऐसी मांग हो रही है.

    देसाईगंज शहर में कोरोना नियमों की उड़ी धज्जिया

    गड़चिरोली जिले के देसाईगंज यह बड़ी बाजारपेठ है. यहां हर रोज हजारो नागरिक विभिन्न काम के लिए आते है. शहर के रेलवे स्टेशन में बड़े पैमाने में यात्रियों की भीड़ होती है. मात्र रेलवे स्टेशन पर आनेवाले यात्री भी कोरोना नियमों का पालन नहीं करते दिखाई देते है. तथा शहर के बस स्टैंड, बस स्टापेज पर कुछ महिला को छोड़कर पुरूष, युवक यात्री मास्क का उपयोग करने की ओर अनदेखी कर रहे है. बस पकड़ने के लिए यात्रियों की बड़ी भीड हो रही है. फलस्वरूप एसटी बस के चालक, वाहक भी मास्क का उपयोग नहीं करते नजर आते है. 

    दिन भर में 7 बाधित व 2 कोरोनामुक्त

    जिले में रविवार 21 फरवरी को 7 नए कोरोना बाधित मिले. तथा 2 लोगों ने कोरोना से जंग जीती. जिससे जिले में अब तक बाधित 9459 में से कोरोनामुक्त होनेवाली संख्या 9290 पर पहुंची है. तथा हाल ही में 64 सक्रीय कोरोना बाधितों पर उपचार शुरू है. नए 7 बाधितों में गड़चिरोली के 6 व धानोरा के 1 का समावेश है. कोरोनामुक्त होनेवाले 2 मरीजों में गडचिरोली के 2 लोगों का समावेश है. अब तक जिले में कुल 105 लोगों की कोरोना के चलते मृत्यू हुई है.