आफत: रातभर हुई बारिश से शहर भी जलमय, नपा कार्यालय पानी में समाया, शहर के कई वार्डों में भी हुआ जलजमाव

    गड़चिरोली. बुधवार की रात से गुरूवार को दोपहर तक निरंतर बारिश होने से  गड़चिरोली शहर के विभिन्न प्रभाग जलमग्न हुए हैं. वहीं स्वयं नगर पालिका का कार्यालय भी पूरी तरह पानी में समा गया है. आमतौर पर बारिश के दिनों में शहर वासियों को सुविधा दिलाने का कार्य नगर पालिका कार्यालय द्वारा किया जाता है, लेकिन रातभर हुई बारिश के चलते गुरूवार को नगर पालिका का कार्यालय स्वयं अपने आप को संवारने के लिए मजबूर हो गया था.

    इसके अलावा शहर के विभिन्न वार्डों में भी पानी जमा होने के कारण वार्डो के नागरिकों को आवागमन करने में भारी परेशानियां उठानी पड़ी थी. शहर के चामोर्शी मार्ग पर पिछले कुछ वर्षो से राष्ट्रीय महामार्ग का कार्य शुरू है, लेकिन यह कार्य काफी धीमी गति से शुरू होने के कारण इस मार्ग के कुछ हिस्सों पर बारिश का पानी जमा हो गया था. जिससे वाहनों के आवागमन से राहगीरों पर कीचड़ उड़ने लगा. वहीं इसी मार्ग से सटा गोकुलनर मार्ग भी पूरी तरह कीचड़मय हो गया था. जिससे आवागमन करने वाले नागरिक पूरी तरह त्रस्त हो गये थे.

    नप कर्मियों को करना पड़ा परेशानियों का सामना

    विदित हो कि बीती  रात से गड़चिरोली जिला मुख्यालय समेत समूचे जिले में बारिश जारी है. गुरूवार को नगर पालिका कार्यालय में कार्यरत कर्मचारियों को कार्यालय पहुंचने में जद्दोजहद का सामना करना पड़ा. कार्यालय के प्रवेश द्वार से कार्यालय तक सभी स्थानों पर बारिश का पानी जमा हुआ था. जिसके चलते अधिकांश कर्मचारी समय पर अपने कार्यालय भी पहुंच नहीं पाये. पालिका प्रशासन पर ही शहर की स्वच्छता व अन्य समस्याओं के निवारण का जिम्मा है. मगर मानूसन के इस बारिश में शहर की सारी नालियां पूरी तरह चोकअप हो गयी है. नालियों का गंदा पानी सड़कों पर उतरने लगा है. कई लोगों के घरों तक यह पानी प्रवेश करने से लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है.

    बारिश पूर्व नियोजन नहीं करने से परेशानी

    नगर पालिका प्रशासन द्वारा बारिश पूर्व नियोजन कार्य समय के रहते पूर्ण नहीं किये जाने से शहर वासियों को विभिन्न परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. शहर के चनकाईनगर, स्वामी विवेकानंद नगर, गोकुलनगर, रामनगर, स्नेहनगर, स्टेडियम प्रभाग, कन्नमवार नगर आदि प्रभाग में सड़कों पर पानी जमा हो गया था.

    एक तरफ  नगर पालिका प्रशासन ने शहर को स्वच्छ बनाए रखने के लिए कई स्थानों पर कंटेनर की सुविधा की है, लेकिन इस बारिश से कंटेनर का सारा कचरा भी लोगों के घरों तक पहुंचने लगा है. शहर के निचले इलाकों में स्थित घरों में नाली का गंदा पानी भी घुसने की जानकारी मिली. जिसके चलते लोगों में तीव्र असंतोष भी व्यक्त होने लगा है.