File Photo
File Photo

गडचिरोली. कोरोना वायरस के बढते संक्रमण को रोकने के लिए देश व राज्य में लॉकडाऊन व संचारबंदी लागू की गई थी. जिसके चलते जनजीवन प्रभावित हुआ था. अर्थव्यवस्था भी चरमरा गई थी. प्रभावित जनजीवन को पटरी पर लाने के लिए राज्य सरकार द्वारा मिशन बिगेन अगेन अंतर्गत विभीन्न सहुलियते दी जा रही है. जिसके तहत हाल ही में राज्य सरकार ने 25 अक्टूबर से जीम संचालकों को राहत देते हुए जीम शुरू करने की अनुमति प्रदान की थी. जिसके तहत गडचिरोली जिले में 25 अक्टूंबर को रविवार का दिन होने से जीम शुरू नहीं हुए थे. मात्र राज्य सरकार के घोषणा के बाद आज 26 अक्टूंबर से गडचिरोली शहर व जिले में अन्य जगहों पर के जीम, व्यायामशाला शुरू होने की जानकारी है. सोशल डिस्टन्सींग का पालन व अन्य नियमों के साथ जीम शुरू करने की अनुमति सरकार ने दी है. 

जिलाधिश से नहीं मिला आदेश

राज्य सरकार ने जीम संचालकों को दशहरे का तोहफा देते हुए जीम शुरू करने की अनुमति दी है. जिसके तहत राज्यभर में अनेक जिलों में 25 अक्टूंबर को जीम शुरू हुए. मात्र गडचिरोली जिले में भी जीम शुरू होने की जानकारी है. मात्र जीम संचालकों को जिलाधिकारी का अधिकृत आदेश अबतक नहीं मिलने की भी बात कहीं जा रही है. सरकार ने स्थानीय स्तर की स्थिती को देखते हुए निर्णय लेने के आदेश जिलाधिकारी को दिए है. जिसके तहत राज्य सरकार के अधिकृत घोषणा के पश्चात जिलाधिकारी द्वारा समय समय पर आदेश जारी कर विभीन्न सहुलियते प्रदान की गई है. 

नितदिन सॅनिटायझर करना अनिवार्य

कोविड 19 प्रादुर्भाव के चलते सरकार नियमों का पालन करने के शर्त पर ही जीम शुरू करने को अनुमति दी है. जिसके तहत जीम में नितदिन प्रत्येक बैच के पश्चात सॅनिटायझर करना अनिवार्य है. वहीं मास्क, सोशल डिस्टन्सींग आदि नियमों का पालन करना भी अनिवार्य है. 

अबतक लाखों का नुकसान

कोरोना महामारी के चलते मार्च माह में लॉकडाऊन लागू किया गया. तब से लेकर अबतक करीब 7 माह बाद जीम शुरू करने की अनुमति सरकार द्वारा मिली है. इन 7 माह के कालावधि में जिले के जीम संचालकों का लाखों का नुकसान हुआ है. जिले के अधिकत्तर जीम किराए के मकानों में है. ऐसे में प्रत्येक माह का किराया, बिजली बिल आदि खर्च का भुगतान जीम संचालकों को करना पड रहा था. गरीबी में आटा गिला के कहावत की अनुभूति जीम संचालकों को कोरोना काल में आ रही थी. इस नुकसान की प्रतिपूर्ति करना मुश्किल होने की बात भी कहीं जा रही है. 

शुरूआत में कम प्रतिसाद

भलेही राज्य सरकार ने 7 माह बाद जीम शुरू करने की अनुमति दी है. मात्र कोरोना प्रादुर्भाव का दौर अब भी कायम है. वहीं नियमों का पालन करना अनिवार्य है. ऐसे में शुरूआती दिनों युवकों का प्रतिसाद कम होने की बात एक जीम के संचालक व्दारा कही गई है. मुख्यमंत्री की घोषणा के तहत जीम शुरू हुए है. कोरोना संक्रमण होने के चलते जीम संचालकों की जिम्मेदारी भी बढ गई है. वहीं सतर्कता ही कोरोना से बचाव का एकमात्र विकल्प होने से स्वयं का ध्यान स्वयं को ही रखना है. इसके लिए जीम में आते समय युवकों को सतर्कता बरतनी चाहिए. ऐसी बात भी उसने कहीं.