धनतेरस पर दिखेगी सोने, चांदी में चमक

  • कोरोना कालावधि में सराफा व्यावसाईयों को मिलेगी राहत

गडचिरोली. दीपावली की शुरूआत धनतेरस से होती है। जिससे इस दिन का भी विशेष महत्व है। हिंदू पुरानों के अनुसार इस दिन खरीददारी करना शुभकारी माना गया है। जिसमें खासकर सोने की खरीददारी  शुभ मानी गई है। जिससे धनतेरस पर अनेक लोगों सोने, चांदी आभूषण की खरीदी करते है। इस वर्ष कोरोना महामारी है। किंतु त्यौहारों  के मद्देनजर लोगों की खरीददारी जारी है। ऐसे में लॉकडाऊन के कारण प्रभावित हुए व्यवसाय को गति मिल रही है। ऐसे में शुक्रवार को साना व चांदी की चमक देखने को मिलेगी। 

भारतीय संस्कृति में पर्व व मुहूर्त का विशेष महत्व होता है। त्यौहारों के मद्देनजरसोने, चांदी के आभूषण खरीदी किए जाते है। धनतेरस के दिन भगवान धन्वतरी अमृत कलश लेकर प्रकट हुए थे। जिससे इस दिन सोने व चांदी के आभूषणों की खरीदी शुभ मानी जाती है। इस वर्ष शुक्रवार 13 नवंबर को धनतेरस ही है। इस दिन सोना, चांदी के आभूषणों की खरीददारी में तेजी देखने को मिल सकती है। अब व्यावसायी त्यौहारों के मद्देनजर बडी उम्मीद लगाए है। सोना व्यावसाईयों को धनतेरस से बडी उम्मीद है।

भलेही कोरोना महामारी का संकट अब भी टला नहीं है, मात्र लोगों के मन से कोरोना का भय कुछ कम हुआ है। जिससे बाजारों में चहल-पहल बढने लगी है। जिससे अनेक व्यावसाईयों का व्यवसाय चल पडा है। कोरोना महामारी में दीपावली का पर्व व्यावसाईयों के लिए बडी उम्मीद है। 

महंगाई की मार कायम 

हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी महंगाई की मार जारी है। मात्र पर्व, त्यौहारों पर महंगाई के बावजूद खरीददारी होती ही रहती है। जिसके तहत इस वर्ष भी धनतेरस पर खरीददारी होने की उम्मीद है। प्रति वर्ष की तरह इस वर्ष भी धनतेरस पर स्वर्ण व्यापार में तेजी देखने को मिल सकती है। बिते कुछ वर्षो में सोने के भाव आसमान छू रहे है। मात्र सोने की खरीददारी का क्रेज कम नहीं हुआ है। इस वर्ष सोने के आभूषण 51 से 52 हजार रुपए प्रति 10 ग्राम है. वहीं चांदी 650 रुपए प्रति 10 ग्रॅम के करीब है. 

क्षतिपूर्ति होने में मिलेगी मदद-चिमड्यालवार

धनतेरस के उपलक्ष्य शहर के तिरूपति ज्वेलर्स के संचालक नितिन चिमड्यालवार ने बताया कि प्रशासन द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करते हुए व्यवसाय शुरू किए गए है। इस दौरान दूकान में सैनेटाइजर रखने, ग्राहकों को मास्क का उपयोग व सोशल डिस्टन्सिंग  का पालन करना आवश्यक है। धनतेरस पर अच्छी बिक्री की उम्मीद है जिससे पिछला नुकसान की भरपाई हो सकेगी।