‘गोंडवाना’ के अंतिम वर्ष के नतीजे घोषित

गडचिरोली. आदिवासी बहुल, दुर्गम व पिछडे जिले के रूप में पहचाने जानेवाले गडचिरोली जिले में ऑनलाईन परीक्षा प्रक्रिया सफलतापूर्वक संपन्न करने में गोंडवाना विश्वविद्यालय ने सफलता प्राप्त की है. सरकार के निर्देश के अनुसार ऑनलाईन परीक्षा लेकर विश्वविद्यालय ने उसके नतिजे भी घोषित किए है. जिससे जिससे फिर से एक बार गोंडवाना विश्वविद्यालय में कार्यकुशलता में उंची उडान लेने की बात कहीं जा रही है. 

राज्य के अन्य विश्वविद्यालय के तुलना में गोंडवाना विश्वविद्यालय में मनुष्यबल व्यापक कम है. पहाडी व दुर्गम क्षेत्रों का जिला होकर यहां अनेक क्षेत्रों में इंटरनेट कनेक्टीव्हीटी की बडी समस्या है. ऐसे स्थिती में भी कुछ चुनिंदा परिक्षा केंद्र छोड अन्य परीक्षा केंद्र पर के छात्रों की परीक्षा उन्होने ऑनलाईन ली. शुरूआत में स्थानीय स्तर पर व्यापक विरोध हुआ. ऑनलाईन परीक्षा ले, ऐसा मशवरा दिया जा रहा था. मात्र पेपरलेस की प्रक्रिया चलाते समय में भी यहीं आरोप हुआ था. इसके पश्चात सत्र परीक्षा का यह कैसे संभव होगा, ऐसी बात भी कहीं जा रही थी. तब भी विवि प्रशासन पिछे न देखते हुए अपना कार्य जारी रखे व उसमें वे सफल रहे. 

सह सभी अनुभव साथ होने से कोरोना के समय में निर्माण हुए परिस्थिती का सामना करने के लिए राज्य सरकार द्वारा दिए गए सुचनाओं का पालन करते हुए ऑनलाईन परीक्षा ली. पहला प्रयास कुछ तकनिकी अडचणों के कारण प्रभावित हुआ. इससे विवि प्रशासन को विभीन्न बातों का अनुभव आया. वह तकनिकी गलतियां सुधारकर परीक्षा लेने का प्रयास किया. इसमें नितदिन करीबन 95 से 98 प्रश विद्यार्थी सहभागी होकर परीक्षा दी. राज्य के अन्य विश्वविद्यालय को परीक्षा लेते हुए व्यापक दिक्कते हुई. मात्र इस विश्वविद्यालय ने अधिनस्त होनेवाले सभी अधिकारी व कर्मचारियों की मदद लेकर ऑनलाईन परीक्षा संपन्न की. इतना ही नहीं तो इन सभी परीक्षाओं के नतिजे भी घोषित किए है.