धुआंधार बारिश, जनजीवन प्रभावित, राष्ट्रीय महामार्ग का रपटा बहा

    गडचिरोली-चामोर्शी की यातायात बाधित 

    गड़चिरोली. विगत एक सप्ताह से लुप्त हुई बारिश का मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार अंतत: आगमन हो गया. बुधवार की रात को जिले में सर्वत्र बारिश की जोरदार इंट्री हुई है. जिले में बुधवार की रात से शुरू हुई बारिश आज गुरूवार को दिनभर हुई इससे जिले का जनजीवन प्रभावित हुआ है. धुआंधार बारिश के चलते गड़चिरोली-चामोर्शी इस राष्ट्रीय महामार्ग पर गोविंदपुर नाले के समीप रपटा बह जाने के चलते इस मार्ग की यातायात बाधित हुआ था. 

    उल्लेखनीय है कि इस मार्ग पर राष्ट्रीय महमार्ग के चलते पुलिया का निर्माणकार्य जारी है. जिस कारण लोगों के आवागमन हेतु रपटा निर्माण किया गया था. लेकिन गुरूवार को हुई धुआंधार बारिश के चलते नाले का बहाव बढ़ने के कारण उक्त रपटा बह गया है. जिस कारण गड़चिरोली-चामोर्शी मार्ग की यातायात ठप हो गया था. इस मार्ग का यातायात वैकल्पिक पोटेगांव मार्ग से परिवर्तित किया गया था. 

    फसलों को मिली संजीवनी

    जिले में धान के साथ ही सोयाबीन व कपास का उत्पादन लिया जाता है. इस वर्ष मृग नक्षत्र में अपेक्षा के अनुसार बारिश नहीं हुई. कुछ हल्की बारिश होने के कारण किसानों ने बुआई के कार्य निपटाएं थे. किंतु इसके बाद बारिश लुप्त होने के कारण किसानों की चिंताएं बढ़ गई थी. बुआई की गई फसल अंकुरित हुई थी. लेकिन बारिश न आने के कारण फसले सूखने की कगार पर थी.

    जिस कारण विगत कुछ दिनों से किसानों की निगाहें आसमान पर टिकी थी. अंतत: बुधवार की रात व आज गुरूवार को जिलेभर में धुआंधार बारिश होने के कारण मुरझाते फसलों को संजीवनी मिली है. जिस कारण किसानों के चेहरे खिल उठे हैं. आगामी दिनों में कृषि कार्य में तेजी आने की बात कहीं जा रही है. गौरतलब है कि बारिश के अभाव में रोपाई कार्य प्रलंबित हुए थे. लेकिन इस बारिश के कारण आगामी दिनों में रोपाई के कार्य प्रारंभ होने का अनुमान है. 

    देसाईगंज तहसील में सर्वाधिक वर्षा 

    गुरूवार को जिले में औसतन 23.3 मिमी बारिश दर्ज की गई. जिले के उत्तरी क्षेत्र में अच्छी बारिश दर्ज की गई. जिसके चलते देसाईगंज तहसील में सर्वाधिक 120 मिमी बारिश दर्ज हुई है. वहीं कुरखेड़ा तहसील में 50.3 मिमी बारिश हुई है. गड़चिरोली तहसील में 22.0 मिमी, आरमोरी 31.1 मिमी, चामोर्शी 1.2 मिमी, सिरोंचा 1.8 मिमी, अहेरी 1.9 मिमी, धानोरा 19.3 मिमी, कोरची 30.9 मिमी, भामरागड़ 1.1 मिमी बारिश दर्ज हुई है. 

    चिचडोह बैरज के खोले गए सभी गेट 

    बुधवार की रात से जिले के साथ ही उत्तरी क्षेत्र में धुआंधार बारिश हुई है. जिसके चलते वैनगंगा नदी का जलस्तर बढ़ने से सतर्कता की दृष्टि से चामोर्शी तहसील के चिचडोह बैरेज के सभी 38 गेट खोले गए हैं. इस बांध से फिलहाल 264 क्यूमेक्स पानी का बहाव शुरू है. 

    बाढ़ स्थिति संदर्भ में प्रशासन की रिपोर्ट

    वैनगंगा नदी पर के गोसीखुर्द बांध के 33 में से सभी गेट बंद है. पॉवर हाउस से 160 क्यूसेस पानी का बहाव शुरू है. वैनगंगा नदी का जलस्तर सामान्य है. प्राणहिता नदी का जलस्तर भी महागांव व टेकरा सरीता मापन केंद्र पर के पंजीयन के अनुसार सामान्य है. गोदावरी नदी के मेडीगड्डा बैरेज के 85 में से 12 गेट शुरू होकर विसर्ग 222 क्यूसेस (7850 क्यूसेस) है. इंद्रावती नदी का जलस्तर भी सामान्य है. भामरागड़ केंद्र के पंजीयन के अनुसार पर्लकोटा नदी का जलस्तर भी सामान्य है.