हाईवे पानी में, व्यावसायियों को नुकसान, महामार्ग प्रशासन की टालमटोल नीति का परिणाम

    चामोर्शी. बीते 1 वर्ष से राष्ट्रीय महामार्ग के कार्य को शुरुआत होकर वह कार्य चामोर्शी शहर से शुरू हुआ है. किंतु महामार्ग प्रशासन की टालमटोल नीति के चलते बसस्टैन्ड परिसर का कार्य अब तक पूर्ण नहीं हुआ है. 3 से 4 दिन आराम करने के बाद रविवार को फिर से धुंआधार बारिश हुई. जिससे महामार्ग 4 से 5 फिट पानी में गया.

    महामार्ग को तालाब का स्वरूप प्राप्त हुआ है. इसका फटका परिसर के व्यावसायी तथा यातायात करने वाले नागरिकों को लगा. जिससे राष्ट्रीय महामार्ग प्रशासन पर व्यापक रोष व्यक्त किया जा रहा है. 

    बीते अनेक दिनों से चामोर्शी शहर से राष्ट्रीय महामार्ग का कार्य शुरू है. लेकिन संबंधित ठेकेदार की नियोजन शून्य तथा टालमटोल नीति के चलते इसका फटका बसस्टैन्ड परिसर के व्यावसायियों के साथ वाहन धारक तथा आम लोगों को लग रहा है. अब तक काफी कार्य बाकी है. सड़क के दोनों छोर को नए बड़ी नालियों का निर्माण करने के लिए खुदाई की गई है जिससे बारिश का पानी बहने के लिए जगह नहीं होने से सड़क पर ही 2 से 4 फिट पानी जमा रहता है.

    यह स्थिति होने के बावजूद इस महामार्ग के कार्य को गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है. जिससे बसस्टैन्ड परिसर के व्यावसायियों को व्यवसाय करना मुश्किल हो रहा है. 

    पानी को बाहर निकालने उपाय योजना करें 

    सड़क निर्माण का कार्य कछुआ गति से शुरू है. ऐसे में नितदिन बीच बीच में बारिश होने से खुदाई किए गए सड़क पर घुटनों तक पानी जम जाता है. 27 जून को शाम के दौरान तुफानी बारिश के चलते सड़क पर 2 से 4 फिट पानी जमा रहकर यातायात व्यवस्था प्रभावित हुई थी. जिससे बस स्टैंड परिसर के राष्ट्रीय महामार्ग का कार्य शीघ्र गति से कर सड़क पर जमा पानी बाहर निकलेगा ऐसी व्यवस्था करे, ऐसी मांग नागरिकों से की जा रही है.