जिले में कोरोना प्रादुर्भाव नियंत्रण में – वडेट्टीवार

  • तत्काल उपाययोजना चलाने के प्रशासन को दिए नर्दिेश

गडचिरोली. लोगों के मन में कोरोना का भय समाप्त हुआ दिखाई दे रहा है. मात्र वे सतर्कता बरतना छोडने न छोडे कोरोना का संक्रमण न हो इसलिए आवश्यक सतर्कता बरतना आवश्यक है. ऐसा आह्वान करते हुए जिले में कोरोना की स्थिती नियंत्रण में होकर जनजीवन सुचारू करने के लिए विशेष ध्यान देकर उपाययोजना चलाने के नर्दिेश जिले के  आपदा प्रबंधन, मदद व पुर्नवसन मंत्री तथा जिले के पालकमंत्री विजय वडेट्टीवार ने प्रशासन को दिए है. 

जिलाधिकारी कार्यालय में आज सोमवार 22 जून को जिलास्तर के विभीन्न यंत्रणाओं का जाएजा लिया. प्रशासन सभी कार्यो को चरणबद्ध तरीके से मंजूरी दे रही है. जिले के प्रशासन, पुलिस विभाग व स्वास्थ्य विभाग के अच्छे कार्य के कारण ही कोरोना को सामाजिक संक्रमण से रोकने में सफल होने की बात भी उन्होने इस समय कहीं.  बैठक में जिलाधिकारी दीपक सिंगला, पुलिस अधीक्षक शैलेश बलकवडे, जिप के मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा. विजय राठोड, विधायक धर्मरावबाबा आत्राम, विधायक कृष्णा गजबे, जिप सदस्य एड. राम मेश्राम आदि उपस्थित थे. 

जाएजा बैठक में नर्दिेश देते हुए मंत्री वडेट्टीवार ने कहां कि, राज्य सरकार 1 जुलाई से रेड जोन तथा प्रतिबंधित क्षेत्र छोड अन्य जगह आंतर जिला यात्रा शुरू करने के लिए अनुमति देने संदर्भ में विचारविनीमय कर रही है. इस संदर्भ में राज्य के मुख्यमंत्री जल्द ही नर्णिय घोषित करेंगे. क्योंकी अब कामगार, मजदूर फिर से अपने काम पर लौटने लगे है. विभीन्न साहत्यि, वस्तू व्यापारियों को खरीदने हेतु बाहर जाना आवश्यक है. इसके लिए सरकार 1 जुलाई से लॉकडाऊन में कुछ मात्रा में सहुलियत देने की तैयारी में है. मात्र कोरोना का सामाजिक प्रादुर्भाव रोकने के लिए मास्क का इस्तेमाल, सोशल डस्टिन्सींग का पालन करने की आदत सभी को लगना आवश्यक है. ऐसी बात कहीं. 

राज्य के मंगल कार्यालयों में बिना एसी 50 व्यक्ति व 5 वाजंत्री के उपस्थिती में विवाह समारोह संपन्न कराने हेतु अनुमति देने की लिखीत सुचना जारी की जानेवाली है. बरसात के कारण विवाह समारोह सुरक्षित जगह पर संपन्न हो इस इसलिए सरकार की ओर से यह नर्णिय लिया जा रहा है. राज्य के नाभिक व्यावसाईयों के प्रश्न पर भी जल्द हल निकाला जाएगा. नॉन एसी केश कर्तनालय शुरू करने की अनुमति आगामी 8 दिनों के भीतर देने के संदर्भ मे चर्चा शुरू किए जाने की बात उन्होने कहीं. 

6 हजार घरकुल का उद्दिष्ट 
जिले के आदिवासी क्षेत्र के तिनों प्रकल्प अधिकारियों को 2-2 हजार घरकुल का उद्देश दिया गया है. आदिवासी लोगों का जीवनमान सुधारने हेतु सरकार की ओर से प्राप्त होनेवाला निधी खर्च करे, ऐसी सुचना उन्होने संबंधित अधिकारियों को दिए. आदिवासी लोकजीवन सुधारने हेतु आवश्यक व जरूरती योजना चलाए ऐसे नर्दिेश भी दिए. 

फसलकर्ज का उद्दिष्ट बढाएं
जिले की खेती तथा खातेदारों के प्रमाण में फसल कर्ज वितरीत नहीं होता है. प्रत्येक बैंक इसमें जिला बैंक व व्यावसाईक बैंक अपना उद्दष्टि बढाकर किसानों केा कज आपूर्ति करना चाहिए. कृषिकार्यो के लिए किसानों को समय पर कर्जआपूर्ति करना आवश्यक है. अगर बैंक फसल कर्ज देने में टालमटोल करती है तो किसान सिधे जिलाधिकारी कार्यालय में शिकायत करे, इसके बाद संबंधित बैंकों पर कार्रवाई की जाएगी. ऐसी बात भी उन्होने कहीं.

आगामी सत्र में शुरू होगा मेडिकल कॉलेज 
जिले में मंजूरी मिले मेडिकल कॉलेज अंतिम चरण में होकर आगामी शैक्षणिक वर्ष में प्रत्यक्ष शुरू होगा, ऐसी बात उन्होने कहीं. इस संदर्भ में कॅबिनेट में अंतिम चर्चा आगामी समय में की जानेवाली है. वहीं जिले में प्रयोगशाला भी जल्द ही शुरू करने की प्रक्रिया जारी है. इसके लिए आवश्यक मनुष्यबल मिलने के लिए प्रस्ताव राज्य सरकार की ओर पेश किया गया है. कोरोना जांच व अन्य बिमारी पर जांच इससे जिले में ही की जा सकेगी. इस दौरान मामुली कारणों के चलते जिले के किसान पीएम किसान योजना से वंचित न रहे ऐसी सुचना भी उन्होने प्रशासन को दी. जिले में रोजगार के मौके उपलब्ध कराने हेतु जिले में सुसज्ज प्रशक्षिण केंद्र नर्मिाण करने की घोषणा इस समय उन्होने की. सर्किट हाऊस में आयोजित पत्रपरिषद के दौरान जिप अध्यक्ष अजय कंकडालवार, पूर्व विधायक डा. नामदेव उसेंडी, आनंदराव गेडाम, हरिराम वरखडे उपस्थित थे.