Electricity

    कोरची. कोरची तहसील मुख्यालय से महज 5 किमी दुरी पर स्थित कुकडेल गांव पिछले तीन दिनोंं से अंधेरे है. वहीं इस गांव का पाटील टोला पिछले तीन माह से अंधेरे में होने की जानकारी मिली है. इस संदर्भ में ग्रामीणों द्वारा बिजली विभाग का ध्यानाकर्षण कराने के बावजूद भी बिजली विभाग के अधिकारी बेध्यानी करने के कारण ग्रामीणों को अंधेरे में जीवनयापन करने की नौबत आन पड़ी है. जिससे ग्रामीणों में बिजली विभाग के कार्यप्रणाली के प्रति तीव्र नाराजगी व्यक्त की जा रही है. ऐसे में बारिश के दिन शुरू होने के कारण ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

    प्राप्त जानकारी के अनुसार, 20 जुलाई से कुकडेल के हलामीटोला, कोवाचीटोला, तुलावीटोला की बिजली आपुर्ति पूर्णत: बंद है. जिससे संपूर्ण कुकडेल गांव में अंधेरे है. जिसके कारण इस गांव के छात्रों का भविष्य अंधेरे में दिखाई दे रहा है. पहले की कोरोना के चलते छात्रों का शैक्षणिक नुकसान हुआ है. वहीं अब बरसात के दिन शुरू होने के कारण लोगों को बिजली की बेहद आवश्यकता होती है.

    विशेषत: यह गांव जंगल से घिरा होने के कारण जंगली पशुओं का भय बना रहता है. लेकिन बिजली विभाग के कर्मचारी इस गांव की बंद पड़ी बिजली आपुर्ति पूर्ववत करने की ओर बेध्यानी करते दिखाई दे रहे है. विशेषत: इसी गांव के पाटिलाटोला की बिजली आपुर्ति पिछले 3 माह से बंद होने की जानकारी मिली है. गांव की बिजली आपुर्ति बंद होने के कारण ग्रामीणों को अंधेरे में रहने की नौबत आन पड़ी है.

    बिजली विभाग की बेध्यानी: हलामी

    कुकडेली निवासी सियराम हलामी ने बताया कि,पिछले तीन दिनों से संपूर्ण कुकडेल गांव की बिजली आपुर्ति बंद है. इस संदर्भ में बिजली विभाग के कर्मचारियों का ध्यानाकर्षण कराने के बाजवूद भी बंद पड़ी बिजली आपुर्ति पूर्ववत शुरू करने में बेध्यानी की जा रही है. जिसके कारण ग्रामीणों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. ऐसी बात उन्होंने कही.

    नियमित शुरू है बिजली आपुर्ति: कुलसंगे

    कोरची बिजली कार्यालय के कनिष्ठ अभियंता ने प्रफुल कुलसंगे ने बताया कि, कुकडेल गांव की बिजली आपुर्ति नियमित रूप से शुरू है. यदि पाटिल टोला की बिजली आपुर्ति पिछले 3 माह से बंद है तो, ग्रामीण कैसे शांत बैठ सकते है. संपूर्ण गांव की बिजली आपुर्ति नियमित रूप से शुरू होने की जानकारी उन्होंने दी.