Medigatta dam suffers heavy losses, disrupters still await compensation

By: सतीश पडमाटिन्टी

सिरोंचा. तेलंगाना सरकार द्वारा बनाया गया मेडिगट्टा बांध निर्माण के शुरुआती अवधि से ही तहसील के किसानों का विरोध झेल चुका है. बीते रबी फसल के दौरान बांध के दरवाजे बंद रखने के चलते किनारों की कुछ हेक्टेयर में फैली उपज को नुकसान पहुंची है. इसको लेकर तहसील में सियासी पारा भी गर्म हुआ था. राजनीतिक जगत से जुड़े हुए लोग सक्रिय होते हुए प्रभावित क्षेत्रों का दौरा भी किया. प्रभावित क्षेत्र में फसल को नुकसान का आंकलन के लिए सर्वे कराया गया. उसकी जानकारी भी भेजी गई. मगर अब तक मुआवजा प्रभावितों को नहीं मिला है. इसको लेकर प्रभावित किसान निराशा में डूबे हुए हैं.                  

हाथ आती फसल चौपट
सिरोंचा तहसील से सटकर निर्माण किए गए मेडिगट्टा बांध के बंद दरवाजों के चलते किनारों पर की खेत खल्यानों में पानी घुस आया था. जिसके जद में आने से दर्जन भर से ज्यादा किसानों के हाथ आती फसल क्षतिग्रस्त हुई थी. इसको लेकर राज्य सरकार ने स्थानीय प्रशासन के द्वारा प्रभावित क्षेत्र का सर्वे करवाकर वस्तु स्थिति को जाना है. जानकारी के मुताबिक प्रभावित क्षेत्र के तहत तहसील के 3 गांवो के किसानों का रकबा शामिल है. जिनकी फसले नुकसानग्रस्त हुई थी. इसमे मृदकृष्णापुर, आरड़ा, सिरोंचा गांवों का समावेश है. 

प्रशासकीय जानकारी उपलब्ध नहीं
यह जानकारी स्थानीय तहसील प्रशासन के द्वारा राज्य सरकार को इस वर्ष के फरवरी माह में भेजी गई जानकारी के मुताबिक है. जबकि प्रशासकीय सूत्रों की माने तो हाल ही के दिनों बांध प्रभावित क्षेत्र का दौरा करने जांच दल आया था. जांच दल ने भी प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर वास्तु स्थिति को जाना है. खबरों के मुताबिक जांच दल के दौरे के बाद प्रभावित क्षेत्र एवं राशि में वृध्दि होने की बात कही जा रही है. हालांकि इसकी प्रशासकीय जानकारी उपलब्ध नहीं ही हो पाई है. स्थानीय स्तर पर प्रयास किया गया मगर जानकारी मिल नहीं पाई है. प्रभावितों ने कहा है कि प्रशासन उनकी फसल नुकसान की रकम दिलाने के दिशा में पहल करें. ताकि उनके आर्थिक स्थिति में सुधार हो सके.     

राशि भेजने की होगी व्यवस्था : तिरुपति
फसल नुकसान से जुड़ी मुआवजे की मांग का पत्र गड़चिरोली जिला प्रशासन के द्वारा भूपालपल्ली(तेलंगाना) जिला प्रशासन को भेजा गया है. इसकी जानकारी भूपालपल्ली जिला प्रशासन से मिली है. मुआवजे की राशि गड़चिरोली जिला प्रशासन को भेजने कि व्यवस्था की जाएगी. यह बात बांध परियोजना के अधिकारी तिरुपति राव ने कही है.

तेलंगाना सरकार को भेजी जानकारी : सिंगला
तेलंगाना सरकार को फसल नुक्सानग्रस्त के संदर्भ में जानकारी भेजी गयी है. क्षतिपूर्ति की राशि (तेलंगाना सरकार) से गड़चिरोली जिला प्रशासन को अब तक प्राप्त नही हुई है. यह जानकारी जिलाधिकारी दीपक सिंगला ने दी.