विधायक डा. होली ने शुरू किया बेमियादी अनशन, किसानों की मांगे हल करने की मांग

    गड़चिरोली.  गड़चिरोली जिले के हजारों किसानों का खरीप सत्र का धान और मक्का फसल खरीदे नहीं गये है. लेकिन दुसरी ओर धान की प्रत्यक्ष रूप में खरीदी न करते हुए केवल दस्तावेज पर सातबारह ऑनलाईन कर करोड़ों रूपयों का भ्रष्टाचार किया गया है. जिसमें किसानों को ठगाया जा रहा है. इस ओर सरकार का ध्यानाकर्षण कराने के लिये गड़चिरोली विस के विधायक डा. देवराव होली ने सोमवार से जिलाधिश कार्यालय के सामने बेमियादी अनशन शुरू कर दिया है.

    सोमवार से शुरू हुए इस आंदोलन में भाजपा के जिलाध्यक्ष किसान नागदेवे, आरमोरी विस के विधायक कृष्णा गजबे, गड़चिरोली की नगराध्यक्ष योगिता पिपरे, पूर्व जिप अध्यक्ष योगिता भांडेकर, गड़चिरोली पंस के सभापति मारोतराव इचोड़कर, अनिल पोहणकर समेत अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे. 

    25 मई से जारी है आंदोलन 

    किसानों की समस्याओं को लेकर विधायक डा. होली ने 25 मई से गड़चिरोली विस क्षेत्र में आंदोलन शुरू कर दिया है. इस कालावधि में उन्होंने गड़चिरोली विस के विभिन्न धान खरीदी केंद्रों को भेट देकर केंद्रों में अनियमिमता और भ्रष्टाचार होने का आरोप लगाया है. वहीं किसानों पर अन्याय करनेवाले अधिकारी व कर्मचारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग आंदोलन के जरिये की है. साथ ही अनेक केंद्रों के सामने राज्य सरकार की निति के खिलाफ प्रदर्शन भी किया है. 

    जिलाधिश ने दी अनशन मंडप को भेट, मांगे हल करने का आश्वासन 

    किसानों की मांगों को लेकर सोमवार से विधायक डा. होली ने जिलाधिश कार्यालय के सामने अनशन शुरू किया. अनशन के पहले ही दिन जिलाधिश दीपक सिंगला ने अनशन मंडप को भेट देकर आंदोलनकर्ता विधायक डा. होली के उनकी मांगों को लेकर चर्चा की. चर्चा के दौरान आगामी दो दिनों में जिले में मक्का खरीदी केंद्र शुरू करने का आश्वासन जिलाधिश सिंगला ने दिया. साथ धान खरीदी केंद्रों में हुई धांधली मामले में अपराध दर्ज करने की बात कहते हुए विभिन्न मांगे हल करने आश्वासन दिया है. जिसके बाद विधायक डा. होली ने अपना अनशन समाप्त किया.