अंतर्राष्ट्रीय लाइब्रेरी से जुड़ा मुनघाटे कालेज, विदर्भ की पहली लाइब्ररी का मिला सम्मान

    कुरखेड़ा. भारत सरकार के नेशनल डिजिटल लाइब्ररी नामक महत्वकांक्षी योजना के अंतर्गत कुरखेड़ा स्थित श्री गोविंदराव मुनघाटे कला व विज्ञान महाविद्यालय में एनडीएल क्लब को हाल ही में मान्यता प्राप्त हुई है. इस तरह की मान्यता प्राप्त करनेवाला पहला स्थान संपूर्ण विदर्भ में मुनघाटे महाविद्यालय को प्राप्त हुआ है.

    सर्वोकृष्ठ ग्रंथालय के रूप में पहचाने जानेवाले महाविद्यालय ग्रंथालय अब अंतर्राष्ट्रीय ग्रंथालय से जुड़ गया है.   भारत सरकार के उच्च शिक्षण मंत्रालय की द्वारा 2016 में नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी नामक उपक्रम की शुरुआत की गई. छात्र, प्राध्यापक, संशोधक व सभी आम नागरिकों के लिये राष्ट्रीय, अंतर्राष्ट्रीय ग्रंथालय की ग्रंथसंपदा व साहित्य कम्प्युटर व मोबाइल पर एक क्लिक पर उपलब्ध करा दिया गया है. संपूर्ण देश में अनेक शैक्षणिक, सामाजिक संस्थाओं ने अपने स्तर पर एनडीएल क्लब की स्थापना की है.

    इसके माध्यम से छात्र व संशोधकों को भारत सरकार के इस उपक्रम में शामिल कराकर उन्हें सुविधा उपलब्ध करा दी जा रही है. नये उपक्रम में हमेशा में अग्रेसर  दंडकारण्य शैक्षणिक व सांस्कृतिक विकास संशोधन संस्था गड़चिरोली द्वारा संचालित मुनघाटे महाविद्यालय कोरोना कालावधि में इस क्लब की स्थापना की है. इसमें 320 सभासदों ने पंजीयन किया है. ग्रंथपाल डा. अनिल भोयर के नेतृत्व में उक्त क्लब का कार्य शुरू है. इस क्लब के सदस्यों को नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी के माध्यम से विश्व के सभी ग्रंथालय के साहित्य उपल्ब्ध हुए है. इस उपक्रम से आदिवासी क्षेत्र के छात्र व अभिभावकों में आनंद व्यक्त किया जा रहा है.